सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बने Software Architect in India Job Skills

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बने Software Architect in India Job Skills-

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बनेसॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बने रोजगार एवं संभावनाएं- एक Software Architects बनने के लिए व्यवसाय और तकनीक की अच्छी समझ होनी आवश्यक है क्योंकि उसे न सिर्फ Software Architect का खाका खींचना होता है बल्कि मॉडल में कंपनी और ग्राहक की जरूरतों के मुताबिक बदलाव भी करने पड़ते है| इसके अलावा कस्टम ऑपरेटरों को प्रशिक्षित करना भी नई प्रणाली की सफलता के लिए आवश्यक माना जाता है| एक सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट के लिए संभावनाओं का अच्छा होना जरूरी है| अगर आपके अंदर अपने काम को कुशलतापूर्वक करने की क्षमता है तो आप जल्द ही सफलता की सीढिय़ां चढ़ सकते है|

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बने,योग्यता-

  • सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट बनने के लिए योग्यता 12वी की पढ़ाई मान्यता प्राप्त बोर्ड से करें|
  • इसके बाद कम्प्यूटर साइंस या सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन कोर्स कम्पलीट करें|
  • आईटी के साथ BE, B.Tech, ME, M.Tech होना जरूरी है|
  • इसके अलावा सिस्टम आईटी में विशेष योग्यता के साथ एमबीए (MBA) करने वाले अभ्यर्थी भी इस क्षेत्र में अपना भाग्य आजमा सकते है|

कार्य-

  • सॉफ्टवेयर ऑर्किटेक्ट्स का काम किसी बिल्डिंग या स्ट्रक्चर के लिए प्लानिंग के साथ-साथ डिजाइन को तैयार करने का होता है|
  • ऑर्किटेक्ट client के बजट के अनुसार Construction की Planning करने में माहिर होते हैं|

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट और सॉफ्टवेयर इंजीनियर में फर्क-

  • Software Architect और सॉफ्टवेयर इंजीनियर दोनों ही प्रोफेशनल्स है साथ ही एक ही क्षेत्र में सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग का काम करते है|
  • हालांकि यह एक ही क्षेत्र में काम करते हैं फिर भी दोनों की जॉब प्रोफाइल कई मायनों में भिन्न होती है|
  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर के कार्य क्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न टास्क के लिए डिजाइनिंग, कोडिंग औ रसॉफ्टवेयर के निष्पादन के कार्य होते है|
  • जबकि सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट को सॉफ्टवेयर के पूरे development का Design तैयार करता होता है लेकिन उनके कार्यक्षेत्र में कोडिंग (Coding) शामिल नहीं होती|
  • सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट अपने Clients से बात करके उनकी आवश्यकताओं को समझते है और साथ ही सॉफ्टवेयर इंजीनियर का काम Software Architect के Instruction का पालन करना माना जाता है|

रोजगार एवं संभावनाएं

  • Software Architect के रूप में कैंडीडेट कम्प्यूटर, आईटी और सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री से संबंधित सरकारी या प्राइवेट सेक्टर की किसी भी कंपनी में अवसर पा सकता है|
  • अगर कैंडीडेट के पास सॉफ्टवेयर डिजाइन और एनालिसिस में प्रोफेशनल Experience है तो बेहतर अवसर मिल सकते है|
  • आर्किटेक्ट चाहे तो सॉफ्टवेयर इंस्टीट्यूट्स, आईटी इंडस्ट्री के साथ ही कम्प्यूटर कोचिंग सेंटर में भी रोजगार पा सकते हैं| ऐसे क्षेत्र जिनमें एप्लीकेशंस और मोबाइल डिवाइस भी शामिल है साथ ही समय के अनुसार बढ़ते Software प्रोग्राम्स की मांग के कारण Software Architect के सामने ढेरों विकल्प मौजूद हैं|
  • इस क्षेत्र में सफलता के लिए Candidate की Creativity, Customer service skills और समस्याओं का समाधान करने की क्षमता रखना बेहद ही जरूरी है|
  • कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में उच्च शिक्षा भी अतिरिक्त लाभ देती है| यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें वेतन भी काफ़ी अच्छा मिलता है|
  • जिन स्टूडेंट्स की पकड Physics और Math विषय में अच्छी होती है, वह इस क्षेत्र में बेहतर कार्य कर सकते हैं| खासबात यह है कि स्टूडेंट्स में स्के्रच और डिजाइन तैयार करने के प्रति रूचि होनी बहुत जरूरी है|
  • कई बार ऑर्किटेक्ट को लीगल वर्क भी करना पड़ता है| इसलिए जरूरी है कि कानून की भी कुछ न कुछ जानकारी अवश्य हो|
  • एक ऑर्किटेक्ट की अच्छी Communication skills के साथ-साथ डेस्क और site पर काम करने की भी काबिलियन होनी चाहिए|

सैलरी-

  • एक Software Architect की सैलरी लगभग 15,000 से 20,000 रुपये तक के बीच में हो सकती है पर साथ ही काबिलियत के अनुसार बढती भी रहती है|
  • दो से चार साल के अनुभव के बाद आपकी मासिक सैलरी ₹30000 रुपये से अधिक भी हो सकती है|
error: