जूनियर इंजीनियर कैसे बने Junior Engineer in India Career Details

जूनियर इंजीनियर कैसे बने Junior Engineer in India Career Details

जूनियर इंजीनियर कैसे बनेजूनियर इंजीनियर कैसे बने पूरी जानकारी हिंदी में एक इंजीनियर अपने क्षेत्र की तकनीकी समस्याओं के लिए डिजाइन और आर्थिक रूप से व्यवहार्य और आसानी से निष्पादन योग्य उत्पादों और समाधान विकसित करने के लिए सिद्धांतों और भौतिक विज्ञान के सिद्धांतों पर लागू होते है| इस क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति में अनुशासन, धैर्य, प्रतिबद्धता और आत्मविश्वास होना चाहिए| एक इंजीनियर बनने के लिए उम्मीदवारों को इसे जुड़े चरणों का पालन करना पड़ता है साथ ही इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम को समझने की समता का होना अति आवश्यक है|

जूनियर इंजीनियर क्या करते है- आवासीय और औद्योगिक विकास परियोजनाओं सहित सार्वजनिक कार्यों और परियोजनाओं की योजनाए बनाने से संबंधित, डिजाइन और निर्माण करने का कार्य करते है उन्हें जेई (जूनियर इंजीनियर) कहा जाता है|

जूनियर इंजीनियर कैसे बने,शैक्षिक योग्यता

जूनियर इंजीनियर बनने के लिए स्नातक होने के लिए दो options है-

  • पहला विकल्प- 10 वीं के बाद डिप्लोमा या पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग में डिप्लोमा प्राप्त किसी भी ट्रेड से कर सकते हैं|
  • दूसरा विकल्प- इंजीनियरिंग के लिए 10 + 2 के बाद डिग्री इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश ले सकते हैं|

जूनियर इंजीनियर बनने के लिए क्या करे-  

10 वीं के बाद डिप्लोमा या पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग में डिप्लोमा प्राप्त किसी भी ट्रेड से करे-

  • इच्छुक उम्मीदवार विभिन्न राज्य सरकारों और तकनीकी शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा को पास करने के बाद अपने पद के अनुसार डिप्लोमा कॉलेज में प्रवेश ले सकते है|
  • डिप्लोमा पाठ्यक्रम के इन तीन साल पूरा करने के बाद डिप्लोमा इंजीनियर्स कनिष्ठ अभियंता स्तर पर काम कर सकते है या इंजीनियरिंग कोर्स में डिग्री के दूसरे वर्ष में प्रवेश पाने के लिए competition का होना बहुत आवश्यक है| जो राज्य के रीजनल इंजीनियरिंग कॉलेज के द्वारा प्रदान की जाती है|
  • इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त करने के लिए एक option यह भी है– डिप्लोमा इंजीनियर AMIE (Associate Member of the Institution of Engineers) के माध्यम से भी अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं|
  • AMIE औपचारिक इंजीनियरिंग शिक्षा कार्यक्रम, जिसे संघ लोक सेवा आयोग, राज्य सरकारों और सार्वजनिक / निजी क्षेत्र के संगठनों के लिए सरकार द्वारा इंजीनियरिंग की डिग्री के समकक्ष रूप से मान्यता प्राप्त हो|

जूनियर इंजीनियर लिए 10 + 2 के बाद डिग्री इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश ले-

  • इंजीनियरिंग कोर्स में Graduation करने के लिए प्रतिष्टित संस्थान से PCM से कम से कम 60% अंकों के साथ मुख्य विषयों के रूप में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित के साथ 12वी कक्षा नॉन-मेडिकल स्ट्रीम से पास की हुई होनी चाहिए|
  • अभ्यर्थी विभिन्न राज्य विश्वविद्यालयों से AIEEE और स्वतंत्र संस्था तथा केंद्र सरकार संगठनो द्वारा आयोजित प्रवेश के लिए परीक्षा दे सकते है| उम्मीदवार को प्रवेश परीक्षा में उनकी योग्यता के अनुसार 4 साल की डिग्री कार्यक्रम के लिए कॉलेज में प्रवेश मिल सकता है|
  • डिग्री कोर्स के सफल होने तथा आवश्यक इंटर्नशिप (an internship) के बाद उम्मीदवार सहायक इंजीनियर के रूप में सरकार, अर्ध सरकारी या प्राइवेट sector में कार्य कर सकते है|
  • डिग्री अभियंता E. और PHD. के रूप में उच्च अध्ययन कर सकते है|

जूनियर इंजीनियर कैसे बने,करियर एवं संभावनाए

जूनियर इंजीनियर (जेई) में करियर की संभावना इस प्रकार है-

  • जेई
  • एई
  • SDE
  • AEE
  • XEN
  • एसई
  • अधीक्षण अभियंता
  • उप मंडल अभियंता
  • सहायक इंजीनियर (कार्यकारी)
  • मुख्य अभियंता (शीर्ष अधिकांश पोस्ट)
  • जूनियर इंजीनियर (डिप्लोमा इंजीनियर)

कार्य व दायित्व (जेई)

  • एक नए भर्ती जूनियर इंजिनियर को संबंधित आवंटित सरकारी संगठनों में किसी एक अनुभाग का प्रभार दिया जाता हैं और वह अपने-अपने विभागों में दिए गए विभिन्न कार्य के लिए जिम्मेदार होगे|
  • इन कार्यों में सबसे पहले मजदूरों द्वारा किए गए दैनिक कार्य का पर्यवेक्षण सम्मिलित है ताकि अगले दिन के लिए कार्य का आवंटन और सुपरविज़न के योजना बनायीं जा सकें|

सैलरी-

  • निजी क्षेत्र में इंजीनियर की सैलरी शुरुआत में लगभग 15,000 से ₹20,000 से बीच में होती है साथ ही अनुभव से साथ बढती भी है|
  • सरकारी क्षेत्र के पदों में जुड़ने के साथ इन्हें उपयुक्त सुविधाओं के अलावा अन्य भत्तों और मुआवजा भी दिया जाता है, चिकित्सा व्यय के साथ ही उनके परिवार के सदस्यों आश्रितों को (एलटीसी) LTC के रूप में छूट मिलती है|
error: