Category Archives: आओ सीखें

इंडियन आर्मी की तैयारी कैसे करें How To Prepare for Indian Army scope

सेना में भर्ती के लिए क्या करे जिसे पाए सफलता Indian Army physical eligibility selection process in hindi

इंडियन आर्मी इंडियन आर्मी की तैयारी कैसे करें- आर्मी में सिलेक्शन होने के लिए आपको क्या करना है| हर वर्ष लाखों लोग इंडियन इंडियन आर्मी  होने के लिए फॉर्म भरते है, मगर उनमे से कुछ ही लोग आर्मी में सीलेक्ट होते है| कई युवक इंडियन आर्मी  ना होने के कारण मायूस हो जाते है| इंडियन आर्मी को ज्वाइन करने का बहुत से लोगों का सपना होता है क्योंकि आर्मी को पूरे वर्ल्ड में बहुत आदर और सन्मान मिलते है| आर्मी को ज्वाइन करना बहुत सन्मान और गर्व की बात में से एक होती है| आर्मी ज्वाइन करके आप देश की सेवा कर सकते है और देश की सेवा करना मतलब सबसे बड़ा काम यही है| कई लड़को का बचपन से आर्मी जॉइन करने का सपना होता है| इंडियन आर्मी में सेवा करते वक्त कई जवान शहीद भी हो जाते हैं, लेकिन उन के शहीद होने से देश को बहुत ज्यादा फायदा मिलता है| इंडियन आर्मी जॉइन करने के लिए पढाई की तरफ, फिटनेस की तरफ और आत्मविश्वास की जरुरत बहुत ही जरूरत होती है| Army Join Kaise Kare इंडियन आर्मी की भर्ती के लिए क्या करें और आर्मी join कैसे करे यह सभी जानकारी यहाँ पर दी जा रही है|

इंडियन आर्मी की प्रक्रिया  selection process for Indian Army Recruitment-

इंडियन आर्मी के लिए आपको निम्नलिखित प्रक्रियाओ से गुजरना होता है जैसे-

  1. शारीरिक फिटनेस परीक्षा (Physical fitness test)
  2. ऐपटीट्यूड टेस्ट (Aptitude Test)
  3. आम प्रवेश परीक्षा (Common Entrance Exam) यह सबके लिए नहीं होती है|

सही करियर का चुनाव

  • शारीरिक फिटनेस टेस्ट (Physical fitness test for Army)

इंडियन आर्मी होने के लिए सैनिक का Physical Fitness Test होता है, Solder GD और Solder Tradesman की तैयारी करने वालों को इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए|

फिटनेस टेस्ट में आपको परखा जाएगा-

  • इंडियन आर्मी के लिए उम्र सीमा 18 से 23 साल मागी जाती है|  
  • वजन कम से कम 50 किलो तक का होना चाहिए|
  • शैक्षणिक योग्यता- 10वी पास, 12वी पास होना चाहिए|
  • उंचाई(height)- 170 सेंटीमीटर कम से कम (7 इंच)
  • 6 KM की दोड़ (1600 Meter Sol GD)
  • Group – I में 5 40 Second
  • और Group – II में 5 41 Second से 6 Min. 20 Second तक|

पहाड़ी क्षेत्र के उम्मीदवारों के लिए 1600 Meter दोड़ के लिए अधिक समय निम्न प्रकार से है-

5000 फिट से लेकर 9000 फिट के बिच वालो को 30 Second Extra

9000 फिट से 12000 फिट के बिच वालो को 120 Second Extra

और 9 Fit की लम्बी कूद, इसमें कोई मार्क्स होते बस इसमें पास होना जरूरी है|

आर्मी भर्ती की मेरिट लिस्ट के बारे में Army Bharti Merit List 2018 Bonus Marks-

Physical Fitness Test में प्राप्त किये गए Numbers की फाइनल मेरिट (Final Merit) में बड़ी भूमिका होती है साथ ही इस Category के उम्मीदवारों के लिए मेरिट निम्न प्रकार से बनाई जाती है जैसे कि-

  1. Aptitude Test के लिए- 25%
  2. PFT में प्राप्त किये गए अंको को- 50%
  3. कॉमन एंट्रेंस एग्जाम में प्राप्त किये गए अंको का- 25%

Aptitude Test क्या है? What is Aptitude Test?

योग्यता परीक्षण के उम्मीदवारों को अपने चुने हुए ट्रेड या कैटगरी में अपनी काबिलियत को दिखाने का मोका मिलना साथ ही आर्मी सेना के स्थान पर भर्ती अधिकारियों द्वारा किया जाता है| उम्मीदवार को लिखित परीक्षा में बेठने के लिए Aptitude Test और मेडिकल में पास होना अति आवश्यक है|

आर्मी की तैयारी कैसे करें How to Prepare for Indian Army Fitness Test-

आर्मी में जाने की तैयारी के लिए कुछ महत्त्वपूर्ण टिप्स-

  • 1600 मीटर दौड़ने की ही तैयारी करें- इंडियन आर्मी की तैयारी के लिए कई लोग रोज 8 से 10 किलोमीटर दौड़ते है, फिर भी 1600 मीटर की दौड़ में पिछड़ जाते है, इसलिए तैयारी के समय ही 1600 मीटर की दौड़ का अभ्यास करें|
  • GD की तैयारी- सामान्य ज्ञान (GD) की तैयारी के लिए पिछले वर्षों के पेपर और सैंपल पेपर देखे और अपनी तैयारी करें साथ ही इसके अलावा गणित, सामान्य ज्ञान, सामान्य विज्ञानं के Aptitude प्रश्नों की तैयारी भी करते रहे और परीक्षा देने जाएँ|

आर्मी में ऑनलाइन आवेदन करें Online Application Form for Join Indian Army-

आर्मी के फॉर्म ऑनलाइन भरने के लिए आपके पास डॉक्यूमेंट होना जरुरी है जैसे- हाई स्कूल / मेट्रिक प्रमाण पत्र के आधार पर फॉर्म भर सकते है| 10वीं 12वीं की मार्कशीट का नंबर जो की शिक्षा बोर्ड के द्वारा दिया गया हो| आपके पास अपना मोबाइल नंबर होना चाहिए जिस पर समय-समय पर भर्ती की जानकारी मिलती रहे| आपको ऑनलाइन फॉर्म में अपना पूरा पता, जिला, राज्य, तहसील और ब्लाक का विवरण सही- सही देना आवश्यक है| साथ ही पैन कार्ड आर्मी सेना में भर्ती होने वाले को भर्ती के समय अपना पैन कार्ड रखना चाहिए| आर्मी में ऑनलाइन आवेदन के लिए इसकी ऑफिसियल वेबसाइट के माध्यम से पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते है|

FAQ-

प्रश्न- इंडियन आर्मी की उम्र सीमा कितनी मागी जाती है?

उत्तर- इंडियन इंडियन आर्मी  के लिए उम्र सीमा 18 से 23 साल मागी जाती है| 

प्रश्न- इंडियन आर्मी भर्ती की प्रक्रिया क्या है?

उतर- इंडियन आर्मी भर्ती की प्रक्रिया यह है-

  • शारीरिक फिटनेस परीक्षा (Physical fitness test)
  • ऐपटीट्यूड टेस्ट (Aptitude Test)

Question- What is the TES?

Answer- Tes is a formerly known as the Times Educational Supplement, is a weekly UK publication aimed primarily at school teachers in the UK. It was first published in 1910 as a pull-out supplement in times newspaper.

Question- What is TGC Indian army?

Answer- TGC stands for technical graduate commission for Army which can either be PC or SSC. For PC (permanent commission) training is imparted in IMA whereas for SSC training and become technical officer in Indian Army in the corps of Signals, Engineers and EME.

सरकारी नौकरी कैसे पाए क्या करे पूरी जानकारी How to Get a Government Job

सरकारी नौकरी पाने के आसान टिप्स जो दिलाये सफलता Govt Job Preparation Tips

सरकारी नौकरीरोजगार से जुड़े क्षेत्र में लोगो को सरकारी नौकरी अत्यधिक लोकप्रिय है| हर कोई गवर्नमेंट जॉब के क्षेत्र में अपना करियर बनाने की चाहत रखते है क्योंकि इस क्षेत्र में सुरक्षा और लाभ दोनों ही मिलते है| अगर आप सरकारी नौकरी के लिए प्रतियोगात्मक और प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो यहाँ पर आपको सरकारी नौकरी पाने के लिए आसान टिप्स बताये जा रहे है साथ ही सरकारी नौकरी पाने के अचूक उपाय जिसे आपको सफलता पाने में आसनी मिलेगी| अधिकतम सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन करें| साथ ही सरकारी क्षेत्र में अच्छा नौकरी परिणाम पाने के लिए विभिन्न भतिर्यो में कोशिश करते रहना चाहिए|

सरकारी नौकरी पाने के आसान तरीके हिंदी में 7 Easy Way to Get Government Jobs in Hindi

  1. सबसे पहले खुद को पहचाने और अपना लक्ष्य निर्धारित करे (identify yourself and set your goal)-

सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करने से पहले खुद को पहचाने और अपना लक्ष्य निर्धारित करे| जैसे आपको किस क्षेत्र के लिए आवेदन देना है साथ ही सरकारी नौकरी के लिए निम्न क्षेत्रो में आवेदन कर सकते हैं जैसे – Banking, IBPS Bank PO, IBPS Clerk, IAS, UPSC, CDS, Railways, NDA, State PCS आदि आवेदन करने के बाद जिसका फॉर्म भरा है उस परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दीजिए|

  1. पढ़ने का समय बनाकर चले (Deciding on a Book and How to Read it)-

आप सबसे पहले यह निर्धारित करे कि आपको कितना समय किस विषय के भाग में देना है| परीक्षा में अच्छी सफलता पाने के लिए समय और स्टडी प्लान दोनों को ही सही ढंग से बनाकर चले| तभी आप अपना सरकारी नौकरी पाने का सपना पूरा कर सकेगे|

  1. सरकारी नौकरी पाने के लिए परीक्षा पैटर्न को समझे (understand Exam Pattern in Govt Jobs)–

किसी भी परीक्षा की तैयारी करने से पहले आपको यह ज्ञात होना चाहिए कि परीक्षा का पैटर्न और सिलेबस दोनों ही क्या है| हर परीक्षाओ का सिलेबस अलग अलग देखने को मिलता ही है| जैसे कि- प्रश्नों की कुल संख्या, भागो की संख्या, परीक्षा अवधि आदि सब चीज का पता होना बहुत जरूरी है साथ ही परीक्षा में सफलता पाने के लिए ज़रूरी यह है कि जिस तरह से परीक्षा का पैटर्न दिया है आप लोगो को उसी के अनुसार तैयारी भी करनी चाहिए|

दसवीं के बाद सरकारी नौकरी

  1. उन विषयों को पहचाने जिसमे आपकी पकड़ कमजोर हो (Identify the subjects for Comparative Study of Grip)-

सबसे पहले जिन विषयों मे आपकी पकड़ कमज़ोर हो उस विषयो की पहचान करे| जब आपको ज्ञात (पता) हो जाए कि आपके कमज़ोर विषय कौन – कौन से है तो आपको उन विषयों पर अधिक से अधिक ध्यान और समय देने होगा ताकि आप अच्छी कट ऑफ प्राप्त कर सके|

  1. ज्यादा अंक प्राप्त करने के लिए मजबूत विषयो की पहचान करे (Easy Marks In An Exam)-

आप जिन विषयो में अच्छे है उनकी पहचान सबसे पहले करे| उन विषयो के प्रश्नों पर लगातार अभ्यास करते रहे ताकि आप ज्यादा से ज्यादा अंक प्राप्त कर सके| साथ ही जिन विषयो में आप अच्छे है उन्हें हल करने की गति भी बढ़ाये जिससे आप परीक्षा में अपने कमजोर विषयो को ज्यादा समय दे सके और जिन विषयों में पकड़ मजबूत है उन विषयों से अधिक अंक प्राप्त किये जा सकते है|

  1. पुराने साल के प्रश्न पत्र को हल करने की कोशिश करे (Previous Year Questions for Problems based)-

सरकारी परीक्षा देने से पहले जितना संभव हो सके उतना अभ्यास करे और साथ ही पुराने साल के प्रश्न पत्र को ज़रूर हल करे| ऐसा करने से आपको परीक्षा का स्तर ज्ञात होगा कि परीक्षा में कैसे प्रसन पूछे जाते है और उस हिसाब से आप प्रसन को अच्छी तरह समझ सकेगे| साथ  ही परीक्षा के लिए जो पुस्तके सुझावित (Suggested) हो उन्ही पुस्तको द्वारा सरकारी परीक्षा की तैयारी करे| ध्यान रखे कि परीक्षा में सफलता पाने के लिए आपको लगातार अध्ययन करना भी बहुत ज़रूरी है|

  1. प्रश्न पत्र को हल करने के लिए समय बनार चले (solve the question paper on time)-

परीक्षा स्वयं को प्रश्न तेजी से हल करने के लिए तैयार करे| न्यूनतम संभव समय में अधिकतम प्रश्न हल करने का समय बनाकर चले| परीक्षा में आप इस बात पर ध्यान दे कि आपको सवालो को जल्दी हल नही करना बल्कि सही उत्तर प्राप्त करना है इसलिए सवालों को हल करते समय इस बात पर जरुर ध्यान दे|

FAQ-

प्रश्न- सरकारी नौकरी कैसे पाए?

उत्तर- सरकारी नौकरी पाने के लिए दिन रात मेहनत करनी पडती है साथ ही पढने से लेकर हर चीज़ का टाइम टेबल का सेट होना बहुत भी जरूरी है तभी सफलता प्राप्त कर सकोगे|

प्रश्न- सरकारी नौकरी पाने के लिए क्या करे?

उत्तर- आसान तरीके से सरकारी नौकरी पाने के लिए सकारात्मक विचार रखे, योग्यताओं के अनुसार सरकारी नौकरी ढूढे, खुद को जॉब के लिए तैयार करे, साथ ही कुछ पाने के लिए धैर्य आदि रखे|

Question- How to Get a Government Job?

Answer- To Get a Government Job are-

  • Maintain a positive attitude,
  • Have an optimistic mentality,
  • Research well about the department of work,
  • Look out for any news,
  • Prepare yourself in advance.

Question- What are the easy tips for getting a government job?

Answer- The easy tips for getting a government job are-

  • Look out for any news,
  • Prepare yourself in advance,
  • Maintain a positive attitude,
  • Have an optimistic mentality,
  • Research well about the department of work,
  • Particular field of work in government sector,
  • Start looking for a suitable job using job searching tools,

RRB रेलवे में करियर कैसे बनायें Career in Indian Railway Job Opportunities

रेलवे में नौकरी कैसे पाये How to get a jobs in Railway Services Exam 2018

RRB रेलवे में करियर RRB रेलवे में करियर कैसे बनाये पूरी जानकारी हिंदी में- रेलवे RRB में बहुत सारे पद होते है साथ ही रेलवे के अंतर्गत विभिन्न विभागों मे पदों के लिए परिक्षाएँ करवायी जाती है जिसमे अन्य पद भी सामिल है| सरकार द्वारा सरकारी नौकरी पाने का सबसे अच्छा तरीका माना जा सकता है| भारतीय रेलवे में जो भर्तियाँ होती है उन्हें 4 ग्रुप में बाँटा गया है ग्रुप A, ग्रुप B, ग्रुप C और ग्रुप D यहाँ पर इन्हीं ग्रुप के बारे में बाताया जा रहा है कि किस ग्रुप में कौन – कौन से पदों पर भर्ती होती है और ग्रुप के लिए क्या शैक्षणिक योग्यता मांगी जाती है और RRB रेलवे में करियर कैसे बनाये आदि| रेलवे RRB में आपकी सैलरी भी अच्छी होती है, साथ ही अपनी योग्यता के अनुसार आप अच्छे पदों को भी हासिल कर सकते है| रेलवे RRB में समय समय के साथ प्रमोसन के रासते भी खुलते रहते है| उम्मीदवारों के लिए रेलवे मे सरकारी नौकरी पाने का बहुत ही सरल तरीका माना गया है| अगर आप RRB रेलवे में करियर बनाना चाहते है यह आपके लिए काफ़ी अच्छा क्षेत्र माना जा सकता है|

RRB रेलवे क्या है? What is RRB-

रेलवे उन संस्थानों में से एक है जो लोग इसमें काम करना चाहते हैं हर साल रेलवे भर्ती बोर्ड गैर-तकनीकी और तकनीकी श्रेणियों के तहत विभिन्न पदों पर उम्मीदवारों की भर्ती के लिए परीक्षा आयोजित करवाते है| आरआरबी यह परीक्षाएं आयोजित करवाती है जैसे-

  • RRB ALP
  • RRB JE/SSE
  • RRC Group D
  • RRB NTPC

RRB रेलवे में करियर बनाने के लिए परीक्षा पैटर्न Indian Railway Examination Pattern-

RRB रेलवे में करियर के लिए परीक्षा पैटर्न (pattern) 2018 की परीक्षाए 4 चरणों में होती है-

  • लिखित परीक्षा / Written Exam
  • पीईटी / PET
  • पीएमटी / PMT
  • चिकित्सा परीक्षण / Medical Examination

RRB रेलवे में करियर बनाने के लिए पदों के बारे में Classification Posts for Indian Railway Employees-

  1. रेलवे भर्ती ग्रुप A (अ) Railway Recruitment Group A –

RRB रेलवे में करियर बहुत अच्छा बनाया जा सकता है| भारतीय रेलवे के ग्रुप A (अ) में बड़े अधिकारीयों में जैसे इंजिनियर, डॉक्टर आदि की भर्ती होती हैं जिसमें यूपीएससी, आईएएस, आईपीएस, कंबाइंड मेडिकल एग्जाम, ऍम.बी.बी.एस, इंजीनियरिंग सर्विस एग्जाम आदि के माध्यम से भर्तियाँ होती है|

रेलवे भर्ती ग्रुप A की शैक्षिक योग्यता Educational Qualification for Railway Services Exam

रेलवे ग्रुप A की भर्ती में होने के लिए कोई निर्धारित शैक्षिक योग्यता नहीं है पर पद के अनुसार आवेदक को इंजीनियरिंग, ऍम.बी.बी.एस. जैसी डिग्री या यूपीएससी जैसी परीक्षा का पास होना जरूरी है|

रेलवे ग्रुप A भर्ती की उम्र सीमा  Railways relaxation in Upper Age Limit for all posts-

रेलवे के अधिकतर पदों के लिए उम्र सीमा 18 से 27 है जिसमें नियमों के अनुसार छूट का भी प्रावधान रखा गया है|

  1. रेलवे भर्ती ग्रुप B (बी) Railway Recruitment Group B –

रेलवे भर्ती ग्रुप B में सीधी भर्ती ना होकर सिर्फ वही कर्मचारी आ सकते हैं जो या तो किसी विभाग से डेपोटेशन (किसी अन्य विभाग में अस्थाई नियुक्ति) पर आते हैं या फिर ग्रुप बी के वह कर्मचारी जो Promoted होकर आते हैं|

रेलवे भर्ती ग्रुप B की शैक्षिक योग्यता Eligibility Criteria for RRB Group B-

रेलवे ग्रुप B की भर्ती में होने के लिए भी कोई विशेष शैक्षणिक योग्यता नहीं ही बस पदोन्नत (Promoted) के लिए जो शर्ते रखी हुई होती हैं उन्हें पूरा करना होता है|

रेलवे ग्रुप B भर्ती की उम्र सीमा Age limit for RRB Group B-

 रेलवे के अधिकतर पदों के लिए उम्र सीमा 18 से 27 है जिसमें नियमों के अनुसार छूट का भी प्रावधान रखा गया है|

  1. रेलवे भर्ती ग्रुप C (सी) Railway Recruitment Group C-

रेलवे के C (सी) ग्रुप में ज्यादातर छात्रों की रूचि देखने को मिलती है| इसमें टेक्निकल एवं नान टेक्निकल दोनों तरह के पद होते हैं| जैसे- लोको पाइलेट, सहायक लोको पाइलेट, सहायक स्टेशन मास्टर, क्लर्क, स्टेनो,  टिकट कलेक्टर, टिकट चेकर आदि पदों पर भर्तियाँ होती है| जो हर राज्य में स्थिति रेलवे भर्ती बोर्ड द्वारा आयोजित करवाई जाती है|

रेलवे भर्ती ग्रुप C की शैक्षिक योग्यता Detailed for RRB Group C Eligibility Criteria-

रेलवे ग्रुप C की भर्ती में होने के लिए कई तरह के पद है जिनमे अलग अलग पदों के लिए अलग शैक्षणिक योग्यता मांगी जाती है| ररB RRB रेलवे में करियर 12th से लेकर ग्रेजुएशन / इंजीनियरिंग तक होती है| टेक्निकल पोस्ट (post) के पदों के लिए आईटीआई (ITI) माँगी जाती है|

How to become telecom engineer

रेलवे ग्रुप C भर्ती की उम्र सीमा Age limit for railway group C Recruitments-

 रेलवे के अधिकतर पदों के लिए उम्र सीमा 18 से 27 है जिसमें नियमों के अनुसार छूट का भी प्रावधान रखा गया है|

  1. रेलवे भर्ती ग्रुप D (डी) Railway Group D Recruitment 2018-

रेलवे भर्ती ग्रुप D (डी) के लिए कर्मचारियों की भर्ती जैसे हेल्पर, खलासी, सफाई वाला, ट्रेकमेन आदि की भर्ती D ग्रुप के माध्यम से करवाई जाती है| रेलवे भर्ती ग्रुप D (डी) की भर्ती को अलग अलग राज्यों में स्थित रेलवे भर्ती बोर्ड द्वारा आयोजित करवाया जाता है|

रेलवे भर्ती ग्रुप D की शैक्षिक योग्यता Detailed for RRB Group D Eligibility Criteria-

रेलवे भर्ती ग्रुप D के लिए 10th पास होना अनिवार्य है|

रेलवे ग्रुप D भर्ती की उम्र सीमा Age limit for railway group D post-

रेलवे के अधिकतर पदों के लिए उम्र सीमा 18 से 27 है जिसमें नियमों के अनुसार छूट का भी प्रावधान रखा गया है|

RRB रेलवे में करियर बनाने के लिए परीक्षा पैटर्न Indian Railway Examination Pattern-

RRB रेलवे में करियर के लिए परीक्षा पैटर्न (pattern) 2018 की परीक्षाए  4 चरणों में होती है-

  • लिखित परीक्षा / Written Exam
  • पीईटी / PET
  • पीएमटी / PMT
  • चिकित्सा परीक्षण / Medical Examination

FAQ-

प्रश्न- रेलवे भर्ती की सैलरी कितनी होती  है ?

उत्तर- रेलवे भर्ती की सैलरी लगभग ₹5200/- से ₹20200/-  साथ में रूपये 2000/- ग्रेड पे के बीच होती है साथ ही पदों के अनुसार अलग अलग होती है|

प्रश्न- रेलवे भर्ती के लिए उम्र सीमा क्या होती है?

उत्तर – रेलवे भर्ती के लिए उम्र सीमा कम से कम 18 वर्ष और 27 वर्ष तक के बीच में होती है|

Ques- Railway bharti ke liye educational qualification kya magi jati hai?

Ans- Railway bharti ke liye educational qualification 10TH pass magi jati hai sath hi post wise.

Ques- what is the full form of RRB?

Ans- The full form of RRB is Regional Rural Banks.

Ques- How many posts are there in Railway?

Ans- A Posts in Railway Recruitment are-

  • RRB Group A,
  • RRB Group B,
  • RRB Group C,
  • RRB Group D.

एयर होस्टेस कैसे बने इसे जुड़ी पूरी जानकारी How to become Air Hostess

एयर होस्टेस बनने के लिए क्या करे करियर आप्शन Career Opportunities for Air Hostess

एयर होस्टेसएयर होस्टेस कैसे बने क्या करे- Air Hostess की नौकरी सबसे आसान काम में से एक लगती है लेकिन इस जॉब में कई सारी जिम्मेदारियां होती है| Air Hostess को हर एक यात्री को बधाई देना है, सुरक्षा के साथ समन्वय करना, हवाई यात्रियों को आराम से यात्रा करवाना, अपनी सीट के निपटान के दौरान यात्री को मार्गदर्शन करना और बहुत कुछ करना होता है|  Air Hostess के रूप में नौकरी (How to apply for air hostess job after 12th) पाने के लिए शिक्षा से आपके व्यक्तित्व का अधिक महत्व है| Air Hostess बनना ज्यादातर लड़कियों का सपना होता है| Air Hostess की सैलरी भी काफ़ी अच्छी होती हैं साथ ही दुनिया भर के विभिन्न लोगों से मिलते हैं और मशहूर हस्तियों से मिलने का मौका भी मिलता ही है| यहाँ पर आपको एयरहोस्टेस कैसे बने Air Hostess बनने के लिए क्या करे? क्या करे Air Hostess क्या होता है एवं उसके क्या क्या कार्य होते है यह सभी जानकारी दी जा रही है|

एयर होस्टेस क्या है? What is Air Hostess

जब किसी हवाई जहाज में यात्रा कर रहे वहां हवाई जहांज में आपकी हर तरह की मदद करने के लिए कर्मचारी विशेषकर महिला कर्मचारी होती हैं वह आपके स्वागत भी करती है उन महिला कर्मचारियों को Air Hostess कहा जाता है|

एयर होस्टेस बनने के लिए शैक्षिक योग्यता Educational Qualification for Air Hostess Training-

अगर आप Air Hostess बनना चाहते है तो आपको कम से कम 12th पास होना अनिवार्य है| इसके साथ साथ आपको English एवं एक अन्य विदेशी भाषा का ज्ञान होना जरुरी है| साथ ही आपकी English काफी अच्छी  होनी चाहिए| एयर होस्टेस बनने के लिए समझने एवं सुनने की क्षमता भी बहुत अच्छी होनी चाहिए|

एयर हॉस्टेस बनने के लिए शारीरिक योग्यता Air Hostess बनने के लिए आपका सुन्दर दिखना काफी मायने रखता है एवं साथ साथ आपकी लम्बाई भी 157.5 या उससे ज्यादा एवं आखों की रौशनी 6/6 होना बहुत जरूरी है| साथ ही आप में कई गुण जैसे धैर्य एवं एक अच्छा कॉमन सेंस का होना बहुत जरुरी है| आपको किसी भी परिस्थिति में अपना धैर्य नहीं खोना है यह गुण आप में है तो आप तभी Air Hostess बन सकती है|

एयर होस्टेस बनने के लिए उम्र सीमा Age limit to become an Air Hostess-

Air Hostess बनने के लिए उम्र सीमा लगभग 18 से 25 साल तक के बीच में होनी चाहिए|

एयर होस्टेस के कार्य Work experience for Professional Air Hostess-

Air Hostess एक बहुत ही जवाबदारी भरा कार्य में से एक होता है| साथ ही इस जॉब से हवाई जहाज में देश विदेश की यात्रा करने को भी मिलता है किन्तु सच्चाई यह है कि एक Air Hostess को कई सारे कार्य करने होते है|

एयरफ़ोर्स पायलट कैसे बने

  1. जब भी कोई यात्री किसी प्लेन पर या हवाई जहांज पर चड़ते है तो उनका पूरे जोश के साथ स्वागत किया जाता है| एक Air Hostess का कार्य यह है जैसे- हवाई जहांज में यात्रियों को कोई भी परेशानी का सामना ना करना पड़े|
  2. यात्रियों का पूरा ख्याल रखना, यात्रियों को लगेज रखने में मदद करवाना, सुरक्षा निर्देश देना, चाय, पानी, भोजन आदि परोसना, ओक्सीजन मास्क की जरुरत पढ़ने पर यात्री को पहनने में मदद करना आदि जैसे कई कार्य होते है जो कि एक Air Hostess को करने होते है|

एयर होस्टेस बनने के लिए कोर्स Course for Air Hostess Careers-

Air Hostess की ट्रेनिंग 12th या ग्रेजुएशन (Entrance exam for air hostess) के बाद ले सकते है इसके लिए आप अपने शहर के नजदीकी एयर होस्टेस ट्रेनिंग सेंटर की जानकारी निकालकर वहां पर प्रवेश आसानी से ले सकते हैं| यहाँ पर कुछ जाने माने Air Hostess सेंटर की जानकारी दी जा रही है जैसे-

  1. जेट एयरवेज ट्रेनिंग अकादमी (Jet Airways Training Academy)
  2. पी.टी.सी. एविएशन अकादमी (PTC Aviation Academy)
  3. इंद्रा गाँधी इंस्टिट्यूट ऑफ़ एरोनॉटिक्स (Indira Gandhi Institute of Aeronautics)
  4. फ्रंक्फिन्न इंस्टिट्यूट ऑफ़ एयरहोस्टेस ट्रेनिंग (Franklin Institute of Air Hostess Training)
  5. राजीव गाँधी मेमोरियल कॉलेज ऑफ़ एरोनॉटिक्स (Rajiv Gandhi Memorial College of Aeronautics)

एयर होस्टेस कोर्स की फीस Air Hostess Course fees–

Air Hostess कोर्स की फीस लगभग ₹60 हजार से 2लाख तक के बीच में होती है और यह आपके उपर भी निर्भर करती है कि आप किस संस्था में प्रवेश लेना चाहते है|

How to become Pilot

एयरहोस्टेस के करियर से जुडी जानकारी  Career Options Air Hostess Job-

Air Hostess का करियर काफी चुनोती पूर्ण होता है से ही लोग सेलेक्ट होते है जो अपना धैर्य कायम रखते है इसलिए इस जॉब के लिए कभी अपने धैर्य को नहीं खोना चाहिए| Air Hostess बनने के पहले आपको कई सारे इंटरव्यू से गुजरना पड़ता है साथ ही फिजिकल अवेरनेस पर भी काफी ध्यान देना पड़ता है और साथ ही खुद को भी अपडेट रखना पड़ता है|

  1. Air Hostess का कोर्स करने के बाद एयरलाइन (airline) में ही कार्य मिलता है| शुरुआत में यदि आप भारत में हैं तो आप भारतीय एयर लाइन कंपनीयां जैसे- Air India, Jet, Indian airlines, Kingfisher, Sahara India जैसे कंपनियों से शुरुआत कर सकते है| इसके आलावा आप विदेशी एयर लाइन जैसे सिंगापूर एयर लाइन, ब्रिटिस एयरलाइन, डेल्टा एयर लाइन आदि कंपनियों से शुरुआत कर सकते है|

एयर होस्टेस की सैलरी Air hostess salary-

Air Hostess वाले लोगो को काफी अच्छा सैलरी पैकेज मिलता है| अगर आप घरेलु विमानों में सर्विस करते है तो आपको 2.5 से 4 लाख (प्रति वर्ष पैकेज) तक मिलता है एवं अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के दौरान 5 लाख एवं उससे भी ज्यादा मिल सकता है जो आपके अनुभव एवं आपके कार्य पर निर्भर करता है| साथ ही Air Hostess को यात्रा के दौरान अन्य भत्ते भी मिलते है साथ ही यह बहुत ही अच्छा करियर माना जाता है|

FAQ-

प्रश्न- एयरहोस्टेस बनने के लिए उम्र सीमा क्या होनी चाहिए?

उत्तर- Air Hostess बनने के लिए उम्र सीमा लगभग 18 से 25 साल तक के बीच में होनी चाहिए|

प्रश्न- एयरहोस्टेस बनने के लिए शैक्षिक योग्यता क्या होनी चाहिए?  

उत्तर- Air Hostess बनने के लिए शैक्षिक योग्यता कम से कम 12th पास होना अनिवार्य है| इसके साथ साथ आपकी English काफी अच्छी  होनी चाहिए| एयर होस्टेस बनने के लिए समझने एवं सुनने की क्षमता भी बहुत अच्छी होनी चाहिए|

प्रश्न- Air Hostess कोर्स की फीस क्या होती है?  

उत्तर- Air Hostess कोर्स की फीस लगभग ₹60 हजार से 2लाख तक के बीच में होती है और यह आपके उपर भी निर्भर करती है कि आप किस संस्था में प्रवेश लेना चाहते है|

Question- What is the age limit to become an air hostess?

Answer- The age limit to become an air hostess requirement as between 19-27 Years.

Question- What are the fees for air hostess training?

Answer- The fee for AHTM is around 1.96 lakh rupees and for the HTCS course is around 1 lakh rupees.

Question- What are the qualifications to become an air hostess?  

Answer- The qualifications to become an air hostess are-

  • Unmarried,
  • Perfect eyesight,
  • Good health,
  • 18 – 26 years of age,
  • Eligible for an Indian Passport,
  • Mastery in spoken English and other foreign languages,
  • 12th with degree in hospitality, or other graduate degree,
  • Height of min 157.5 centimeters, Weight proportionate to the height.

यूपीएससी क्या है UPSC की पूरी जानकारी UPSC Qualification Syllabus 2018

यूपीएससी की तैयारी कैसे करें How to Prepare for UPSC Exam 2018

यूपीएससी क्या है? What is UPSC

यूपीएससी सन् 1950 में  लोक सेवा आयोग (PSC) में कुछ बदलाव करके इसके अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए इसे संघ लोक सेवा आयोग  (UPSC) नाम दिया गया है| इसका भी मुख्य कार्य प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी के अधिकारीयों या सिविल सेवकों का चयन करना होता है| UPSC के माध्यम से ही देश में आईएएस/आईपीएस के आलावा अन्य कई ग्रेड A एवं ग्रेड B के अधिकारीयों की भर्ती करवाई जाती है|

युपीएससी परीक्षा देने के लिए शैक्षिक योग्यता Eligibility Criteria For UPSC Exam

छात्र जो छात्र अपना ग्रेजुएशन पूरा कर चुके है वह युपीएससी की परीक्षा देने के लिए शैक्षिक योग्य है| साथ ही ऐसे छात्र जो अपने ग्रेजुएशन के अंतिम वर्ष अथवा अंतिम सेमिस्टर में है|

युपीएससी परीक्षा देने के लिए उम्र सीमा UPSC Age Limit 2018- 2019

UPSC देने के लिए सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों की उम्र सीमा लगभग 21 साल से 32 साल तक के बीच में होनी चाहिए|  साथ ही ST / SC उम्मीदवारों की उम्र सीमा में 5 साल की छुट दी जाती है और अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 3 साल तक की छुट दी जाती है|

युपीएससी द्वारा लेने जाने वाली परीक्षाएं UPSC Examinations

कई सारी परीक्षाओं का आयोजन यूपीएससी UPSC द्वारा किया जाता है जैसे कुछ नाम यह है-

  1. इंडियन फोरेस्ट सर्विस (IFS)
  2. सिविल सर्विस एग्जाम (CSE)
  3. नेशनल डिफेन्स एग्जाम (NDA)
  4. कंबाइंड डिफेन्स सर्विस एग्जाम (CDSE)
  5. इंजीनियरिंग सर्विसेज एग्जामिनेशन (ESE)

युपीएससी परीक्षा कितने चरणों में होती है UPSC exam pattern 2018-

युपीएससी परीक्षा 3 भागों में होती है जैसे-

  1. प्रारंभिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. इंटरव्यू

युपीएससी की तैयारी कैसे करें How to prepare for UPSC exam-

युपीएससी एक बहुत बड़े level पर होने वाली परीक्षाओं में से एक है इसे आसान ना समझे इस परीक्षा के लिए बहुत प्रतियोगिता (competition) चलता रहता है| कई लोग सालों की मेहनत के बाद भी इस परीक्षा में सफल नहीं हो पाते है| आप अगर  वाकई में UPSC में सफल होना चाहते है तो इन सभी बातों का विशेष ध्यान रखना बहुत जरूरी है जैसे-

  1. युपीएससी की तैयारी कोचिंग ज्वाइन करें- देश में कई सारी IAS / IPS की तैयारी के लिए कोचिंग हैं जो आप ज्वाइन कर सकते है| वहां पर आपको हर नई जानकारी / न्यूज़ / सूचना आदि से अपडेट रखा जाता है एवं आपको पढ़ने का माहोल भी मिलता ही है| साथ ही कई वर्षों के पेपर और Study material आदि आपको कोचिंग के द्वारा उपलब्ध कराएँ जाते है जिसके कारण आपको युपीएससी की तैयारी करने में आसानी मिलती है|
  2. युपीएससी की तैयारी इन्टरनेट की मदद- आज कल से समय में इन्टरनेट हर व्यकित के पास मोजूद है तो बेहतर होगा कि इसका उपयोग ज्ञान के लिए सही तरह से करे और साथ ही पिछले वर्षों के पेपर, जनरल नॉलेज, न्यूज़ आदि से भी update रहें| Newspaper भी एक बेहतरीन तरीका है अपने नॉलेज को बढ़ाने के लिए आप हिन्दी एवं इंग्लिश के अखबारों को रोज पढ़ने की आदत डालें|

युपीएससी क्लियर करने के बाद करियर की संभावनाए UPSC Career Guidance Options-

UPSC अलग अलग exam conduct करवाती हैं तो यह आप पर निर्भर करता है कि आप UPSC की कौन-सी परीक्षा दे रहे है| यदि आप यूपीएससी द्वारा आयोजित CSE सिविल सर्विस एग्जाम क्लियर कर लेते हैं तो आप ग्रुप अ (A) के अधिकारी जैसे कलेक्टर, सचिव आदि की पदों में जा सकते है| CSE के आलावा अन्य कई exam जैसे ESE, CDS, NDA आदि कई तरह की exam UPSC द्वारा आयोजित होते है|

FAQ-

प्रश्न- UPSC का पूरा नाम क्या होता है?

उत्तर- UPSC का पूरा नाम संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission) है|

प्रश्न- युपीएससी परीक्षा देने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए? 

उत्तर- छात्र जो छात्र अपना ग्रेजुएशन पूरा कर चुके है वह युपीएससी की परीक्षा देने के लिए शैक्षिक योग्य है|

प्रश्न- युपीएससी द्वारा कौन – कौन सी परीक्षाओ का आयोजन होता है?

उत्तर- कई सारी परीक्षाओं का आयोजन UPSC द्वारा किया जाता है जैसे कुछ नाम यह है-

  1. इंडियन फोरेस्ट सर्विस (IFS)
  2. सिविल सर्विस एग्जाम (CSE)
  3. नेशनल डिफेन्स एग्जाम (NDA)
  4. कंबाइंड डिफेन्स सर्विस एग्जाम (CDSE)
  5. इंजीनियरिंग सर्विसेज एग्जामिनेशन (ESE)

प्रश्न- UPSC परीक्षा के लिए उम्र सीमा क्या होनी चाहिए?

उत्तर- UPSC देने के लिए सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों की उम्र सीमा लगभग 21 साल से 32 साल तक के बीच में होनी चाहिए|  साथ ही ST / SC उम्मीदवारों की उम्र सीमा में 5 साल की छुट दी जाती है और अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 3 साल तक की छुट दी जाती है|

Question- What is the full name of the UPSC?

Answer- The full name of the UPSC is Union Public Service Commission.

Question- What is UPSC syllabus?

Answer- A complete list of subjects for the Civil Services Examination conducted by the Union Public Service Commission (UPSC) based on the UPSC syllabus. The Civil Services Examination is widely considered as one of the toughest and the most prestigious examinations conducted in India.

Question- What is UPSC?

Answer- A Union Public Service Commission is India’s premier central recruiting agency. It is responsible for appointments to and examinations for All India services and group A & group B of Central services.

प्राइवेट जॉब कैसे पाए प्राइवेट जॉब में सफलता टिप्स How To Get private Job In Hindi

प्राइवेट जॉब करने से पहले किन बातों का रखे ध्यान Job in private limited companies

प्राइवेट जॉब कैसे पाएप्राइवेट जॉब कैसे पाए- प्राइवेट जॉब कैसे पाए प्राइवेट जॉब में सफलता टिप्स- आज के टाइम में private job मिलना भी बड़ी मुसकिल का काम बन गया है क्योंकि अपनी मनपसंद जॉब करने का सबका अपना तरीका होता है साथ ही चाहत भी होती है कि जिस काम को करने में ज्यादा से ज्यादा expert हो वही जॉब मिल सके| लेकिन वक़्त के साथ लोगो की जरूरते भी बढती गयी और फिर लोगो को अधिक अधिक धन की आवश्यकता पड़ने लगी जिसकी पूर्ति के लिए लोग अपने घर गाव को छोड़ कर शहर की तरफ जाने लगे और फिर यही से लोग दूर शहरो में आकर नौकरी या व्यापार करना शुरू किया| एक अच्छी प्राइवेट जॉब कैसे पाए? Private Job Kaise Payee? एक मुख्य कारण यह भी है कि कुछ लोगो को new जॉब निकलने के बारे में पता ही नहीं होता है और जब पता चलता है तो उस जॉब की डेट (date) चली गयी होती है| तो हमे update रहने की अति आवश्यकता है| यहाँ पर आपको प्राइवेट जॉब कैसे पाए साथ ही प्राइवेट जॉब में सफलता टिप्स की पूरी जानकारी दी जा रही है|

प्राइवेट जॉब करने से पहले कुछ बातो का ध्यान दे Very Important Tips Before Join Private Jobs

Private Job करने से पहले कुछ बातो को ध्यान में रखना बहुत जरुरी है जैसे-

  1. हर इंसान का सपना रहता है की उसके पास खूब पैसे हो और ढेर सारी खुशिया हो लेकिन जब Private Job करने लगते है तो Job के साथ साथ सब कुछ का समझौता करना पड़ता है की जब भी हमे कोई Private Job में जॉब मिल रही है तो सबसे पहले उस Company की पूरी जानकारी रखे साथ ही Company के Infrastructure के बारे में अच्छी तरह से जान लेना चाहिए|
  2. अगर Private Job में अपना Career बनाना है तो Consultancy या Job Provider हो उनके Details और उनके Contact में रहना चाहिए और खुद को Private Job Openings के लिए Alert रखना चाहिए|
  3. जॉब अपने मनपसंद Field में नही मिलती है तो घबराना नही चाहिए और उसके बदले में यदि कोई दुसरे Field की Job मिल रही हो तो हमे उस Job को Join कर लेना चाहिए लेकिन हमे इस बात का ध्यान रखना चाहिए हमारा Aim क्या है और हम जिस Field की जॉब चाहते है उस जॉब के करते हुए आसानी से ढूढ़ सकते है|

सरकारी बैंक में नौकरी

  1. Private Job में Resume या CV का बहुत ही बड़ा Role होता क्योंकि कोई भी Company Job Interview के लिए आपके Resume को ही देखकर बुलाती है तो हमे अपना CV इस प्रकार Simple और बेस्ट Words Use करके बनाना चाहिए की पढने वाला आसानी से आपके बारे में जान जाए
  2. Private Job आजकल Online Website में भी Update होते है तो हमे अपना Online Resume, CV या अपना Job Profile Bio Data भी Update करना चाहिए और एक बार Update करने के बाद उसे समय समय पर Update करते रहना चाहिए|
  3. Private Job को पाने के लिए Interview का बहुत ही महत्व होता है तो हमेशा Interview के लिए भी तैयार रहना चाहिए|

प्राइवेट जॉब पाने के तरीके  Ways Technologies Private Jobs-

  1. अपने काम की पूरी जानकारी रखे- एक अच्छी जॉब बड़ी ही आसानी से या सिफ़ारिस से मिल जाए लेकिन एक बाद ध्यान में रखिये कि अगर आपको अपनी जॉब से related काम के बारे में जानकारी नहीं है तो private company में ज्यादा समय नहीं टिक सकते काम को अपनी समझदारी के साथ पूरा करना चाहिये| इसलिए आप अच्छी तरह जान ले कि आप जिस भी जॉब के लिए apply कर रहे है उसकी समझ आपको है की नहीं तभी जाकर apply करे|
  2. हर रोज न्यूज़ पेपर को पढ़े हर रोज न्यूज़ पेपर को पढ़े क्योंकि न्यूज़ में हर रोज job alert दी गयी होती है साथ ही job की पूरी जानकारी मिलती है और साथ ही जॉब से related sites दी हुई रहती है इस कारण आप चाहे तो job के बारे में पूरी जानकारी पा सकते है और एक बेहतर जॉब के लिए apply भी आसानी के साथ कर सकते है|
  3. जॉब की वेबसाइट पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन (Registration) करे- एक अच्छी और अपनी मनपसंद जॉब पाने का सबसे अच्छा तरीका है| जॉब से related वेबसाइट पर जाकर अपना Registration करा सकते है| इन्टरनेट में आपको ऐसी बहुत सी sites मिलेगी जिसके माध्यम से आप एक अच्छी नौकरी पा सकते है| websites के जरिये आप अपने near address की जॉब देख सकते है और साथ ही जॉब की वेबसाइट पर registration करने का फ़ायदा यह है कि जब भी आपकी qualification के हिसाब से कोई भी जॉब निकलती है तो आपके फ़ोन या आपकी Registration की हुई mail id पर Message या फ़ोन आ जाते है|
  4. रिज्यूम बनाते समय कुछ बातों का रखें ध्यान
  5. रिज्यूम को कम से कम शब्दों में लिखने का प्रयास करे| जिसमे पढाई, करियर और आपके कौशल से जुड़े महत्वपूर्ण जानकारी हो|
  6. अपनी व्यक्तिगत जानकारियां जैसे- अपने नाम, लिंग, पिता / माता का नाम, वर्तमान पते तक ही सिमित रखे| resume में इससे ज्यादा व्यक्तिगत बातो की कोई आवश्यकता नहीं होती है|
  7. भविष्य में आपके करियर को लेकर क्या प्लान और सपने है और उसके बाद अपने अब तक के कार्य अनुभव से जुडी पूरी जानकारी लिखे|
  8. यदि आप फ्रेशर है, तो अपने कॉलेज के प्रोजेक्ट के बारे में विवरण लिख सकते है|
  9. जिस प्रकार के जॉब के लिए आप आवेदन करना चाहते है| उससे जुड़े सर्टिफिकेट और कार्य अनुभव को अपने रिज्यूम में लिखे|

प्राइवेट जॉब मिलने के बाद कुछ बातो पर ध्यान दे A career in the private sector jobs-

  1. Private Job कर रहे है तो अक्सर Morning में जल्दी उठने की आदत डाले और Morning में समय से पहुचने की कोशिश करे क्योंकी जो की Time को follow करते है उनका प्रभाव भी अपनी जॉब में अच्छा बने रहता है|
  2. Private Job में Time का बहुत ख्याल करना पड़ता है साथ ही Office का काम टाइम से करे जिससे आपके head प्रशंसा मेहसूस हो| Time की Delay से बड़ी कंपनीयो को नुकसान भी उठाना पड़ सकता है इसलिए हमे अपने Life में समय को अच्छी तरह से follow करना चाहिए|
  3. जब हमारे पास अधिक काम आ रहे हो तो हमे सबसे पहले अपने Pending Work की List बनानी चाहिए और जो Work सबसे Important हो उसे Top Priority देनी चाहिए|
  4. जब हमारे पास काम आने लगते है तो लगता है की हमे आवश्यकता से अधिक काम दिया जा रहा है| ऐसा हम सभी के साथ Feel होता भी है अगर आप जॉब कर रहे है तो Negative Thinking नही सोचनी चाहिए| साथ ही जितना अधिक काम जानोगे उतना अधिक आगे बढने का मौका मिलते रहेगा|
  5. जो इंसान Private Job करते है उन्हें एक main Problem यही रहती है कि शाम को Late से घर जाना पड़ेगा इसलिए अपने सारे Works को खत्म करने की कोशिश करे और आज का काम कल पर नही छोड़ना चाहिए|
  6. Office में जब Work का Pressure ज्यादा हो तो जरुरी बातो को भूलने की समस्या भी आ सकती है इसलिए अपने पास एक Diary रखे| जिससे ऐसा कोई भी important Point हो तो उसे तुरंत Note करे जिसे नोट किये गये Points पर Work कर सकते है|

FAQ-

प्रश्न- प्राइवेट जॉब क्या होती है?

उत्तर- निजी क्षेत्र अर्थव्यवस्था का हिस्सा है, जिसे कभी-कभी नागरिक क्षेत्र के रूप में जाना जाता है, जो निजी व्यक्तियों या समूहों द्वारा चलाया जाता है, आमतौर पर लाभ के लिए उद्यम के साधन के रूप में एवं राज्य द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है|

प्रश्न- प्राइवेट जॉब कैसे पाए?

उत्तर- प्राइवेट जॉब पाने के तरीके कुछ यह है-

  1. हर रोज न्यूज़ पेपर को पढ़े
  2. अपने काम की पूरी जानकारी रखे
  3. रिज्यूम बनाते समय कुछ बातों का रखें ध्यान
  4. जॉब की वेबसाइट पर जाकर अपना Registration करे|

Question- What is a private sector job?

Answer- The private sector is the part of the economy, sometimes referred to as the citizen sector, which is run by private individuals or groups, usually as a means of enterprise for profit, and is not controlled by the State.

Question- What is an example of the private sector?

Answer- The organizations in the private sector Examples include are-

  1. Partnerships- Dentistry, Legal, Accounting, Tax.
  2. Sole Proprietors- Designers, Developers, Plumbers, Repairmen.
  3. Small and Medium (sized Businesses)- Hospitality, Food, and Services.

ऑटोमोबाइल इंजीनियर कैसे बने How to become a Automobile Engineer after 12th

ऑटोमोबाइल इंजीनियर क्या है पूरी जानकारी Scope and Career For Automobile Engineering

ऑटोमोबाइल इंजीनियरऑटोमोबाइल इंजीनियर क्या है कैसे बने- आज कल के समय में सभी का अपना एक सपना होता ही है| अगर आपकी भी रुचि नए नए वाहन के डिजाइन बनाने में और उनका निर्माण करने में है तो ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग आपके लिए एक अच्छे करियरमें से एक है| जिसके अंतर्गत आप सभी वाहनों के निर्माण और उन के डिजाइन के बारे में अध्ययन कर सकते है| ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग वाहन इंजीनियरिंग की ही एक शाखा है जिसके अंतर्गत सभी वाहन जैसे मोटरसाइकिल, बस, ट्रक, ट्रैक्टर, आदि का डिजाइन और साथ ही इसे जुडी चीज़े बनाई जाती है| इंजीनियरिंग के लिए मैकेनिकल इलेक्ट्रिक सॉफ्टवेयर और सेफ्टी इंजीनियरिंग की भी काफी जरूरत पड़ती है क्योंकि इन सभी का काम भी ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग के अंदर जाता है| Automobile Engineer वाहनों के सभी पुर्जे का निर्माण करते है साथ ही एक वाहन को पूरा तैयार करना तथा बदलाव करने के बारे में अध्ययन करवाना होता है| ऑटोमोबाइल इंजीनियर का काम किसी भी वाहन का डिजाइन, विकास, निर्माण, और परीक्षण करना होता है| यहाँ पर आपको Automobile Engineering क्या है Automobile Engineering Salary, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग के बेसिक्स, ऑटोमोबाइल क्षेत्र के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है|

ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनने के लिए योग्यता Educational Qualification required for Automobile Engineering-

ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में अपना करियर बनाना चाहते है तो आपको सबसे पहले ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग से डिप्लोमा करना होगा उसके बाद आपको ग्रेजुएशन (graduation) की डिग्री पूरी करनी होती है| Graduation की डिग्री (B.E. / B.Tech ) हासिल करने के बाद में आप कहीं पर भी ऑटोमोबाइल इंजीनियर के रूप में काम कर सकते है और अगर आप आगे भी इसकी पढ़ाई करना चाहते है तो आप इसके बाद मास्टर डिग्री भी कर सकते है|

ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनने के कोर्स Automobile Engineering course details-

  1. बीई ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग (BE Automobile Engineering)
  2. बी.टेक ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग (B.Tech Automobile Engineering)
  3. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा (Diploma in Automobile Engineering)
  4. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में पीजी डिप्लोमा (PG Diploma in Automobile Engineering)
  5. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में सर्टिफिकेट प्रोग्राम (Certificate Program in Automobile Engineering)

ऑटोमोबाइल इंजीनियर के प्रकार Different types of automobiles Engineering jobs-

Automobile Engineer के कामों के लिए अलग-अलग इंजीनियर बनाए जाते है तो आपकी रुचि के अनुसार इन तीनों पदों में से किसी भी एक पद पर ऑटोमोबाइल इंजीनियर के रूप में आसानी से काम कर सकते है| Automobile Engineer के प्रकार यह है जैसे-

  1. डेवलपमेंट इंजीनियर (Development Engineer)-

डिजाइन तैयार होने के बाद से ही वाहन के सभी पुर्जे बनाए जाते है यह काम डेवलपमेंट इंजीनियर्स का होता है|

  1. निर्माण इंजीनियर (Manufacture Engineer)-

डेवलपमेंट इंजीनियर्स द्वारा बनाए गए किसी भी वाहन के पुर्जे को आपस में जोड़कर एक पूरा वाहन तैयार करने का काम मैनुफैक्चरिंग इंजीनियर्स का ही होता है|

फ्लाइट इंजीनियर

  1. प्रोडक्ट और डिजाइन इंजीनियर (Product or Design Engineer)-

प्रोडक्ट और डिजाइन इंजीनियर का काम सिर्फ वाहन का डिजाइन तैयार करना होता है| ऑटोमोबाइल इंजीनियर का सबसे पहला भाग यहीं से शुरू होता है| प्रोडक्ट और डिजाइन इंजीनियर किसी एक वाहन का डिजाइन तैयार करते है और उस डिजाइन के आधार पर वाहन के लिए बनाते है|

ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनने के बाद करियर की सम्भावनाये Automobile Engineer Career and Education Needs-

ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग बनने के बाद करियर के आप्शन होते है| आपके सामने बहुत सारे नौकरियों के विकल्प हो जाते है क्योंकि ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग के अंतर्गत बहुत सारे वाहनों का निर्माण करना आता है| इसीलिए आज के समय में जितने भी वाहन आप देखते है उन सभी कंपनियों में Automobile Engineer की जरूरत बहुत अधिक होती है| Automobile Engineer के लिए नौकरियों की कोई कमी नहीं है बस आप में काम करने का एक अच्छा हुनर होना बहुत जरूरी है| यह कुछ लिस्ट दी गयी है  Automobile Engineer के काम की जैसे-

  1. Automobile Mechanic
  2. Alignment And Brakes Technician
  3. Apprentice Motor Vehicle Mechanic
  4. Apprentice Repairer, Truck Trailers
  5. Apprentice Repairman, Truck Trailers
  6. Apprentice Mechanic, Automotive Radiators
  7. Motor Repairer – Motor Vehicle Manufacturing
  8. Motor Repairman – Motor Vehicle Manufacturing
  9. Motor Repairwoman – Motor Vehicle Manufacturing
  10. Motor Vehicle Diesel Engine Mechanic
  11. Motor Vehicle Fuel Conversion Technician
  12. Motor Vehicle Fuel-Systems And Electric
  13. Motor Vehicle Mechanic
  14. Motor Vehicle Mechanical Repairer
  15. Motor Vehicle Mechanical Repairman

ऑटोमोबाइल इंजीनियर की सैलरी Salary for Automobile Engineering

Automobile Engineer की सैलरी (diploma automobile engineering salary) काम और पढ़ाई के ऊपर निर्भर करती है| अगर आप डिप्लोमा करते हैं Automobile Engineer बनना चाहते है तो आपकी सैलरी कम होगी क्योंकि एक डिप्लोमा होल्डर की सैलरी लगभग ₹10000 से ₹15000 तक के बीच में होती है| तो इसी तरह आपकी सैलरी भी इतनी ही होगी अगर आप डिग्री के बाद में Automobile Engineer बनते है तो आपकी सैलरी लगभग ₹15000 से ₹25000 तक के बीच में होगी साथ ही जैसे जैसे आपको काम का अनुभव होने लगेगा वैसे वैसे आपकी सैलरी बढ़ती रहेगी एक अच्छे Automobile Engineer की सैलरी लगभग ₹35000 से ₹40000 महीना हो सकती है|

FAQ –

 प्रश्न- ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनने के लिए कौन कौन से कोर्स होते है?

उत्तर- Automobile Engineer बनने के लिए यह कोर्स होते है जैसे-

  1. बीई ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग
  2. बी.टेक ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग
  3. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
  4. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में पीजी डिप्लोमा
  5. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में सर्टिफिकेट प्रोग्राम

प्रश्न- ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनने केलिए क्या करे?

उत्तर- ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में अपना करियर बनाने के लिए आपको सबसे पहले ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग से डिप्लोमा करना होगा उसके बाद आपको graduation की डिग्री पूरी करनी होती है| Graduation की डिग्री (B.E. / B.Tech ) हासिल करने के बाद में आप कहीं पर भी ऑटोमोबाइल इंजीनियर के रूप में काम कर सकते है और अगर आप आगे भी इसकी पढ़ाई करना चाहते है तो आप इसके बाद मास्टर डिग्री भी कर सकते है|

प्रश्न- ऑटोमोबाइल इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है?

उत्तर- Automobile Engineer की सैलरी लगभग ₹15000 से ₹25000 तक के बीच में होती है साथ ही जैसे जैसे आपको काम का अनुभव होने लगेगा वैसे वैसे आपकी सैलरी बढ़ती भी रहती है|

Question- How long do you have to go to school to be an automotive engineer?

Answer- A masters degree programs offer research opportunities for students and Its take about two years to complete a master degree program in automotive engineering then Studies include Design and manufacturing.

Question- Which of the Automobile Engineering Careers?

Answer- They are Career Requirements-

  1. Earn a Bachelor’s Degree,
  2. Build a Portfolio,
  3. Gain Work Experience,
  4. Consider a Graduate Degree in Automobile Design.

Question- What qualifications do you need to be an automotive engineer?

Answer- You’ll usually need a qualification like an HNC, HND, foundation degree or degree, before starting a 1 to 2 year company training scheme. Relevant subjects include mechanical engineering, Electrical or electronic engineering etc.

डिजिटल मार्केटिंग है क्या Digital Marketing career scope and opportunities

डिजिटल मार्केटिंग करियर कैसे बनाये Career in Digital Marketing Professional

डिजिटल मार्केटिंगडिजिटल मार्केटिंग है क्या डिजिटल मार्केटिंग में करियर कैसे बनाये- आज कल के समय में अपने करियर को बेहतर बनाने के लिए हर एक व्यक्ति भाग दौड़ में लगे ही रहते है | Internet से जुड़ने के बाद हर एक व्यक्ति New Digital World से जुड़ते है और Internet के माध्यम से हर एक चीज़ पा भी सकते है जो कि Offline द्वारा मिलता है जैसे Book, Guide, Products, Services, Business etc. बहुत से लोग ऐसे है जो घर बैठे Computer के द्वारा internet से ही Job करते है| यहाँ परे आपको Digital Marketing Kya hai? Digital Marketing के बारे में की Digital Marketing होती क्या है इसकी strategy, job या Digital marketing Profile के बारे में सुना भी होगा साथ ही आज कल के समय में बहुत से लोग अपने Facebook, Linkedin, Instagram profile के आगे “Digital Marketer” शब्द का इस्तेमाल करते है| चलिए जानते है कि एक Digital Marketer कैसे बन सकते है|

डिजिटल मार्केटिंग क्या है ? What is a Digital marketing-

Digital marketing अपने product को online internet के माध्यम से global market में लोगो तक पहुंचना का एक मात्र तरीका है जिसमे आप computer या mobile जैसे digital equipment के द्वारा अपने product / brand को globally promote आसानी से कर सकते है इसी को हम digital marketing कहते है| digital marketing का मुख्य उद्देश्य अधिक से अधिक लोगो तक पहुंचना है साथ ही कम लागत में digital marketing के द्वारा global market तक पहुँचा जा सकता है|

डिजिटल मार्केटर कैसे बने How to become digital marketers-

Digital marketing learn करने के लिए और एक Professional Digital marketer बनाने के लिए कम से कम Marketing Technique में सभी Technique और उनसे जुड़े Tools के बारे में अच्छे से जानना (learn) जरूरी है और साथ ही Practice भी करनी होगी|

  1. Search Engine Optimization में हमें Keyword Research, Off-Site SEO, On-Site SEO, Local SEO, E-commerce SEO के बारे में complete जानकारी और Practice दोनों ही होनी चाहिए| इसके साथ SEO से जुड़े Tools जैसे की Google Webmaster, Google Analytics जैसे tool के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है|
  2. Social Media Optimization और Social Media marketing इसे याद (learn) करना बहुत जरुरी है एक Professional Digital marketer बनने के लिए क्योकि आज के समय में Social Media से ही लोग सबसे ज्यादा जुड़े हुए है|
  3. Search Engine Marketing आज एक समय एक Important Digital marketing technique में से एक है और बहुत से Companies के लिए 20k से 50k Salary pay करके Professional hire करते है| क्योकि इसमें Keyword Research, Keyword Selection, Demographics जैसे चीजों के बारे में अच्छे से जानकार प्राप्त करनी होती है और इसके साथ ही PPC, Google Ad words, Bing Ad और Creation के बारे में जानकारी होनी चाहिए|

डिजिटल मार्केटिंग के अनेक प्रकार Type of Digital Marketing Jobs-

डिजिटल मार्केटिंग के अनेक प्रकार क्या है| वैसे तो Internet पर होने वाली activate Internet marketing का पार्ट है| लेकिन इसके भी कुछ महत्त्वपूर्ण प्रकार होते है जो कि Business promotion के लिए बहुत ही जरुरी है| डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार यह है जैसे-

  1. SMM (Social Media Marketing)-

SMM यानी Social Media Marketing यह एक Digital marketing technique है जिसका use करके किसी Business, Website को सभी Social Media जैसे Facebook, Instagram, LinkedIn पर Promote किया जाता है| यह एक तरीके से देखा जाए तो SEM की तरह ही होता है और इसमें भी Paid promotion करने होते है|

  1. PPC (Pay per Click)-

PPC Advertisement SEM strategy का ही एक पार्ट है और इसमें कोई भी Business, Website के द्वारा पैसे जमा करने होते है| PPC Advertising को हम search engine के साथ- साथ Social media website पर भी use कर सकते है|

  1. SEM (Search Engine Marketing)-

SEM यानी Search Engine Marketing एक Paid Digital marketing technique है जिसके मदद से सभी सर्च इंजन (search engine) जैसे google, Bing, yahoo आदि से जोड़ सकते है और इस तरह Paid Traffic को अपने Business, Website तक लाया जा सकता है|

  1. ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing)-

ईमेल मार्केटिंग (Email marketing) technique Digital marketing का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्से में से एक है और ज्यादातर Business lead generation का काम Email marketing के द्वारा ही होता है| यह भी एक तरीके का Paid marketing strategy है|

  1. SEO (Search Engine Optimization)-

SEO यानी Search Engine Optimization यह एक Organic और Natural Digital marketing technique है| जिसके मदद से हम Internet पर अपने Business, Website को ऑप्टिमाइज़ (Optimize) कर सकते है और टार्गेटेड कस्टमर (targeted Customer) तक पहुच सकते है|

डिजिटल मार्केटिंग में एक्सपर्ट कैसे बने Best Tips Digital Marketing Experts-

अपने देखा होगा की बहुत सी बड़ी वेबसाइट (Websites), फेसबुक (Facebook),ट्विटर (Twitter) से बहुत अच्छा पैसा कमा रहे है| डिजिटल मार्केटिंग में एक्सपर्ट बनने के लिए बेस्ट टिप्स जैसे-

  1. डिजिटल मार्केटिंग एक्सपर्ट का पालन करें Digital Marketing Experts Follow-

सोशल मीडिया (Social Media) एक बहुत अच्छी जगह है जहां पर आप  Digital Marketing के बारे में सीख सकते है| डिजिटल मार्केटिंग एक्सपर्ट को Follow करके आप अपनी स्किल्स को Increase कर सकते है|

  1. हमेशा अपडेट रहें न्यू ट्रेंड्स के साथ Always stay updated with new trends-

अगर आप Digital Marketing Expert बनना चाहते है तो आपको हमेशा Updated रहना पड़ेगा |

डिजिटल मार्केटिंग इम्पोर्टेन्ट क्यों है? Benefits and importance of digital marketing-

  1. Digital Marketing बहुत important है| इसके बारे में आप केवल इसी बातो से ही अंदाज़ा लगा सकते है| बिना Digital Marketing methodology के कोई भी Business, Website, Service, Product का promotion नहीं किया जा सकता है और ना ही कोई Traffic लाया जा सकता है|
  2. Digital marketing के हेल्प से हम High ROI यानी Return on Investment पा सकते है| मतलब कि जितना Promotion के लिए Invest करते है उससे कई गुना ज्यादा Business, lead, Sale आदि तक पाया जा सकता है|

VFX क्या है करियर की सम्भावनाये

  1. अगर कोई Business को Digital marketing के माध्यम से Promote कर रहे है तो Digital marketing से Business Product और Services के हिसाब से Right Customer तक पंहुचा जा सकता है और साथ ही High Conversion Rate भी पा सकते है या Business Sale Boost कर सकते है|
  2. Digital marketing की मदद से किसी भी Business का Daily, Weekly, Monthly आदि Yearly Growth का आसानी से पता लगा सकते है और Demographic, Funnel Visualization, Goals Setting के माध्यम से सभी चीजों को अच्छे से समझ सकते है|

FAQ-

प्रश्न- डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

उत्तर- Digital marketing अपने product को online internet के माध्यम से global market में लोगो तक पहुंचना का एक मात्र तरीका है जिसमे आप computer या mobile जैसे digital equipment के द्वारा अपने product / brand को globally promote आसानी से कर सकते है इसी को हम digital marketing कहते है| digital marketing का मुख्य उद्देश्य अधिक से अधिक लोगो तक पहुंचना है साथ ही कम लागत में digital marketing के द्वारा global market तक पहुँचा जा सकता है|

प्रश्न- Digital Marketing Skills के लिए क्या काम बहुत जरूरी है?

उत्तर- Digital Marketing Skills के लिए यह काम बहुत जरूरी है-

  1. Content लिखना आना चाहिए,
  2. Video बनानी आनी चाहिए,
  3. Web Design बनाना आना चाहिए,
  4. Social Media Skills का होना बहुत जरूरी है|

Question- What is the full form of SEO?

Answer- The full form SEO is Search Engine Optimization.

Question- What is the full form of SEM?

Answer- The full form SEM is Search Engine Marketing.

Question- What is the Important Components for Digital Marketing?

Answer- The Important Components for Digital Marketing are-

  1. Search Engine Optimization (SEO)
  2. Search Engine Marketing (SEM)
  3. Pay Per Click (PPC)
  4. Content Marketing
  5. Web Analytics
  6. Email Marketing
  7. Mobile Marketing
  8. Inbound Marketing
  9. Social Media Marketing
  10. Native Advertising
  11. Marketing Automation
  12. Online PR

Question- What is the full form of PPC?

Answer- The full form PPC is Pay per Click.

टीवी एंकर कैसे बने How to become a TV Anchor career opportunities

एंकरिंग क्या है जाने पूरी जानकारी Steps to becoming a successful TV anchor

टीवी एंकर टीवी एंकर कैसे बने क्या करे- आजकल टीवी पर न्यूज चैनलों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है| न्यूज चैनलों के बढ़ने से News Anchor की डिमांड (demand) भी हर रोज बढ़ रही है| ऐसे में न्यूज एंकरिंग में एक बेहतर करियर बनाया जा सकता है| न्यूज एंकरिंग में पैसे के साथ-साथ नाम व शोहरत दोनों ही मिलती है| न्यूज एंकरिंग आज के युवाओं का एक फैशन बन गया है| इस लाइन की एक खासियत यह भी है कि इसमें स्वतंत्रता के साथ काम किया जा सकता है| इस फील्ड (field) में समय की कोई बंदिश न होने के कारण युवाओ का क्रेज News Anchor में बढ़ता ही जा रहा है| यदि आपमें anchoring का थोड़ा सा भी हुनर है तो इस फील्ड में करियर बना सकते है और सफलता की बुलंदियों को भी छू सकते है| News Anchor में स्कोप होने के कारण एक अच्छा future बनाया जा सकता है| टीवी एंकर भी किसी फिल्म एक्टर से कम नहीं माना जाता है| फिल्म एक्टर दर्शकों को फिल्मो से जोड़ने का काम करता है| एक अच्छे एंकर को चैनल वालो से अच्छी सैलरी मिलती है| यहाँ पर आपको टीवी एंकर कैसे बने? एक anchor बनने के लिए क्या करना पड़ता है और किन-किन चीजों की आवश्यकता होती है| इसके बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है|

टीवी एंकर बनने के लिए योग्यता Qualification required to become a news anchor-

एंकर बनके एंकरिंग (anchoring) करने की चाह रखने वाले लोगो को 12वीं ( इंटरमीडिएट ) उत्तीर्ण होना अति आवश्यक है| इसके साथ ही हिन्दी और English दोनों ही भाषाओ की अच्छी जानकारी होनी चाहिए|

टीवी एंकर बनने के लिए उम्र सीमा Age limit for news anchoring jobs-

टीवी एंकर बनने के लिए उम्र सीमा लगभग 18 साल से 40 साल तक के बीच में हो सकती है| इस करियर में आपको अपनी काबिलियत के अनुसार ही अपने सपनों तक पहुँचना होता है|

टीवी एंकर के रोजगार Tv Anchor Jobs for Employment Requirements-

टीवी एंकर बनने के लिए कोर्स करने से पहले या कोर्स करने के बाद हर इंसान के मन में जॉब का ख्याल आता है कि हमें नौकरी कहाँ मिलेगी? तो हम आपको बता दे कि टीवी एंकर का कोर्स करने के बाद न्यूज चैनल में anchoring की जॉब मिल सकती है| इसके अलावा टीवी के प्रसारित शोज में भी जॉब की संभावनाये हैं| साथ ही टीवी के अलावा आप स्टेज शोज में भी एंकरिंग का काम कर सकते हैं|

टीवी एंकर बनने के लिए गुणों का होना Characteristics Of Exceptional TV Anchors-

टीवी एंकर बनने के लिए युवाओं में कुछ गुणों का होना अति आवश्यक है इसलिए यहाँ पर आपको बताया जा रहा है-

1 – एंकर बनने के लिए (स्पष्ट) बुलंद आवाज का होना अति आवश्यक है|

2 – एंकर की अंग्रेजी और हिन्दी दोनों भाषाओ पर पकड़ मजबूत होनी चाहिए|

3 – एंकर के फील्ड (profession) में बॉडी लैंग्वेज व पर्सनल्टी की भी आवश्यकता पड़ती है|

4 – एंकरिंग (anchoring) में journalism के बैकग्राउंड एवं न्यूज राइटिंग का भी ज्ञान होना चाहिए|

टीवी एंकर बनने के इंस्टिट्यूट का चुनाव करे Career Options and Guidance for TV Anchor-

एंकरिंग कोर्स (anchoring course) के बहुत सारे इंस्टिट्यूट है लेकिन आपको कुछ अच्छे इंस्टिट्यूट (best institute) के नाम इस प्रकार है-

  1. आईआईएमसी, नई दिल्ली
  2. गार्डन सिटी कॉलेज, बंगलुरू
  3. जानकीदेवी महाविद्यालय, नई दिल्ली
  4. भारतीय विद्या भवन, नई दिल्ली
  5. जेवियर इंस्टीटूट ऑफ कम्युनिकेशन, मुंबई
  6. ओस्मानिया यूनिवर्सिटी कॉलेज फॉर वूमेन, हैदराबाद
  7. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली
  8. एनआरएआई स्कूल ऑफ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली
  9. आईएएएन स्कूल ऑफ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली
  10. इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट फॉर मीडिया एंड फिल्म (IIMF), जयपुर
  11. एशियाई एकेडमी ऑफ़ फिल्म एंड टेलीविज़न (AAFT), नॉएडा
  12. नेशनल स्कूल ऑफ़ इवेंट्सएट मुम्बई, इंदौर, एंड कोलकाता
  13. वाईएमसीए इंस्टीट्यूट फॉर मीडिया स्टडीज ऐंड इन्फॉरमेशन टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली
  14. सेंटर फॉर रिसर्च इन आर्ट ऑफ़ फिल्म एंड टेलीविज़न (CRAFT), नई दिल्ली

टीवी एंकर की सैलरी Salary for TV anchor job-

टीवी एंकर कोर्स को करने के बाद शुरुआत में लगभग ₹20,000 रुपये तक की जॉब आसानी से मिल सकती है| इसके साथ ही अनुभव के आधार पर आप अच्छी salary पा सकते है|

FAQ-

प्रश्न- टीवी एंकर की उम्र सीमा क्या होनी चाहिए?

उत्तर- टीवी एंकर की उम्र सीमा लगभग 18 से 40 साल तक के बीच में होनी चाहिए|

प्रश्न- एंकर बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए?

उत्तर- एंकर बनने के लिए योग्यता 12वी पास किया हुआ होना चाहिए|

प्रश्न- एंकर बनने के लिए कोर्स में कितने साल लगते है?

उत्तर- समाचार एंकरों के लिए शिक्षा आवश्यकताएँ और पत्रकारिता, संचार या संबंधित क्षेत्र में स्नातक की डिग्री आम तौर पर समाचार एंकर बनने का पहला कदम है| इन 4-वर्षीय डिग्री कार्यक्रमों में मीडिया नैतिकता, संपादकीय लेखन, दृश्य प्रौद्योगिकी और जांच रिपोर्टिंग में coursework शामिल हैं|

Question- What should be the qualities to become a TV anchor?

Answer- To become a TV anchor, there is a need for some qualities in the youth, so here you are being told as-

  1. To be anchor (clear) loud voice is very important.
  2. Anchor should be strong on both English and Hindi languages.
  3. Body language and personality are also required in the field of anchor.
  4. Anchoring should also have knowledge of the background of journalism and newswriting.

Question- How can I become a TV anchor?

Answer- Steps to Becoming a TV anchor and Reporter are-

  1. Earn a Bachelor’s Degree.
  2. Gain Employment.
  3. Join a Professional Organization.

12th कॉमर्स के बाद क्या करे Commerce Courses After 12th

कॉमर्स के बाद करियर के लिए क्या करे Professional courses after 12th commerce stream

12th कॉमर्स के बाद क्या करे Commerce Courses After 12th12th कॉमर्स के बाद क्या करे करियर एवं संभावनाए- आज कल के समय में रोजगार की कमी होने के कारण सभी लोग कम उम्र में ही अच्छा करियर चुन रहे है साथ ही अपने सपने को पाने के लिए दिन रात मेहनत भी करनी ही पडती है तब कहीं जाकर वह किसी नौकरी के काबिल बन सकते है|

कोई भी विषय चुनने से पहले सोच विचार करे जिसे आप अपना करियर बेहतरीन बना सके| 12th कॉमर्स के बाद छात्रों को हमेशा से ही डिसिशन (decision) लेने में problem आती ही है कि 12th कॉमर्स के बाद क्या करे? क्या विषय ले जिसे आप अच्छा करियर चुन सके और कौन-सी लाइन चुने जिसे आने वाला अच्छा बन सके| यहाँ पर आपको 12th commerce के बाद क्या करना चाहिए इसकी पूरी जानकारी दी जा रही है|

12th कॉमर्स के बाद अच्छे करियर आप्शन Best Courses After 12th Commerce 2018-

1) BBA (Bachelor of Business Administration)-

12th कॉमर्स के बाद B.com के छात्रो को BBA कोर्स ज्यादा पसंद आता है| B.com की तरह ही ये भी 3 साल की ग्रेजुएट डिग्री है जो कि 12वीं कक्षा के बाद कर सकते है| इस कोर्स में आपको (diploma courses) बिज़नस मैनेजमेंट और Human resource जैसे subjects के बारे में पढ़ाते है| इसे करने के बाद आप चाहें तो MBA भी कर सकते है|

2) BHM (Bachelor In Hotel Management)-

BHM को Bachelor In Hotel Management कहते है| BHM कोर्स 4 साल का कोर्स है यह उन लोग के लिए सबसे अच्छी चॉइस है जो होटल मैनेजमेंट के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते है। इस कोर्स से स्टूडेंट hospitality के क्षेत्र में अपना कैरियर बना सकते है|

3) CA (Chartered Accountancy)-

हर कॉमर्स स्टूडेंट का सपना होता है की वह CA बने| CA को Institute of Chartered Accountants of India द्वारा conduct व manage किया जाता है| ICAI को ही भारत में CA बनाने का जिम्मा दिया गया है| CA बहुत ज्यादा अच्छे कोर्स में से है इसीलिए अगर कोई भी छात्र या छात्रा CA की तैयारी करना चाहती है तो उसको 12वी क्लास पास करने के बाद ही शुरू कर देनी चाहिए| इसकी शुरुआत CPT Test से होती है जिसको पास करने के बाद आपको information technology training में 100 घंटे की ट्रेनिंग करनी होती है इसके बाद आप articled assistant और audit assistant के रूप में 18 महीने तक काम कर सकते है| फिर आप Professional Competence Examination यानी की PCE का एग्जाम देना पड़ता है| इसके बाद आपको एक और एग्जाम देना पड़ता है| यह सबसे ज्यादा सैलरी (salary) देने वाली job में से एक है| नए बने हुए CA की भी सैलरी कम से कम 5 लाख तक होती है| जैसे जैसे experience बढ़ता जाता है वेसे वेसे ही सैलरी भी बढ़ने लगती है|

4) बैचलर ऑफ़ कॉमर्स B.com (Bachelor Of commerce)-

12वीं कॉमर्स स्ट्रीम (stream) से पास करने के बाद छात्रो सबसे बेहतर विकल्प B.com है| कॉमर्स के छात्रो के लिए B.com तीन साल की एक ग्रेजुएट डिग्री में से एक है| भविष्य में बिज़नस (business) से जुड़े क्षेत्र में जैसे बिज़नस प्लानिंग, एकाउंटिंग आदि चीज़ों की जानकारी का होना बहुत ही जरूरी है| B.com भी कई तरह के होते है जैसे की normal B.com, B.com(Accounts and Finance), B.com (Banking and Insurance) आदि इस सब में अलग अलग subject पर जोर दिया जाता है पर डिग्री B.com होती है| B.Com में बिज़नस से जुड़े शुरूआती मुद्दों पर ध्यान दिया जाता है| आप चाहें तो B.Com कर के पोस्ट ग्रेजुएशन भी कर सकते है और बड़े स्तर की नौकरी पा सकते है| अगर आप सही से B.Com करते है तो आप इस क्षेत्र में अच्छी नौकरी पा सकते है साथ ही B.com करके कोई Masters डिग्री की हुई है तो B.com की value ज्यादा बढ़ जाती है और आगे चलकर बेहतर नौकरी मिलने की उम्मीद होती है|

5) BCA (Bachelor In Computer Applications)-

BCA (Bachelor in computer applications) एक ऐसा कोर्स है जो कि 12वी कक्षा के बाद साइंस stream तथा कॉमर्स stream के छात्र दोनों ही करते है| यह 3 साल की एक ग्रेजुएट डिग्री है| और 3 साल का BCA करने के बाद आप MCA भी कर सकते है जिससे आपकी वैल्यू और भी बढ़ जायेगी और आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी मिल सकती है| यह डिग्री करने के बाद आप किसी भी IT कंपनी में सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर (Software programmer) की जॉब पा सकते है| BCA कंप्यूटर से जुड़ा हुआ कोर्स है यह कोर्स सिर्फ उन लोगों को करना चाहिए जो कंप्यूटर में रूचि रखते है क्योंकि कंप्यूटर में रूचि न रखने वाले लोगों के इस कोर्स में कुछ भी नहीं है।की जॉब पा सकते है। अगर आप चाहें तो 3 साल की BCA करने के बाद आप MCA भी कर सकते है जिससे आपकी वैल्यू और भी बढ़ सकती है|

6) ICSI ( Institute of company secretaries of India)-

ICSI कोर्स company secretary के लिए है इसमें छात्रो के लिए अच्छा स्कोप (scope) है| यह कोर्स 3 चरणों में किया जाता है| इसकी शुरुआत 8 महीने के फाउंडेशन कोर्स के साथ होती है अगर आपने ग्रेजुएशन की हुई है तो आपको foundation कोर्स नहीं करना पड़ेगा इसमें आपको छूट दी जाती है| फाउंडेशन कोर्स के बाद दूसरा चरण “Executive” होता है और तीसरा चरण “प्रोफेशनल” होता है| प्रोफेशनल कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को 16 महीने तक किसी अनुभवी Company secretary के साथ काम करना होता है इसके बाद वह ICSI के एसोसिएट सदस्य और खुद ही एक कंपनी सेक्रेटरी बन जाते है|

7) LLB (Law Course) –

जो स्टूडेंट लॉयर या वकील बनना चाहते है वो लॉ की बैचलर डिग्री प्राप्त कर सकते है साथ ही BCI द्वारा इनको प्रमाण पत्र (certificate) दिया जाता है| लॉ कोर्स के अलावा भी कुछ कोर्स है जो की कॉमर्स स्ट्रीम के छात्र कर सकते है| जैसे की Integrated Law Course. लॉ (Law Course) और कॉमर्स दोनों की पढ़ाई 5 वर्ष से ज्यादा लंबी डिग्री में से एक है|

FAQ-

प्रश्न- बैचलर ऑफ़ कॉमर्स क्या है?

उत्तर- बैचलर ऑफ़ कॉमर्स तीन साल की एक ग्रेजुएट डिग्री में से एक है| भविष्य में बिज़नस (business) से जुड़े क्षेत्र में जैसे बिज़नस प्लानिंग, एकाउंटिंग आदि चीज़ों की जानकारी का होना बहुत ही जरूरी है| B.com भी कई तरह के होते है जैसे की normal B.com, B.com(Accounts and Finance), B.com (Banking and Insurance) आदि इस सब में अलग अलग subject पर जोर दिया जाता है पर डिग्री B.com होती है|

प्रश्न- CA की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- चार्टर्ड एकाउंटेंट्स (सीएस) को चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) द्वारा आयोजित नवीनतम कैंपस प्लेसमेंट कार्यक्रम है| CA की सैलरी लगभग ₹40,00 रुपये तक के आस पास में होती है और समय के अनुसार बढती भी रहती है|

Question- What is the full form of ICSI?

Answer- The full form of ICSI is Institute of company secretaries of India.

Question- What is the full form of BHM?

Answer- The full form of BHM is Bachelor in Hotel Management.

Question- What is the use of BCA?

Answer- The BCA is an undergraduate degree course in computer applications for duration of 3 years. After completing BCA, a student can go for MCA which is a master course in computer application and is considered equivalent to engineering course (B.Tech).

जूनियर इंजीनियर JE कैसे बने How to become a Junior Engineer

जूनियर इंजीनियर बनने के लिए क्या करे JE preparation tips 2018 scope and opportunities

जूनियर इंजीनियर JE कैसे बने How to become a Junior Engineerजूनियर इंजीनियर जेई कैसे बने पूरी जानकारी हिंदी में- एक इंजीनियर अपने क्षेत्र की तकनीकी समस्याओं के लिए डिजाइन और आर्थिक रूप से व्यवहार्य और आसानी से निष्पादन योग्य उत्पादों और समाधान विकसित करने के लिए सिद्धांतों और भौतिक विज्ञान के सिद्धांतों पर लागू होते है|

इस क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति में अनुशासन, धैर्य, प्रतिबद्धता और आत्मविश्वास होना चाहिए| यदि आपमें यह सभी गुण है उच्च श्रेणी निर्धारण प्रतियोगी परीक्षाओं में अपने कौशल को निखारना बेहद जरूरी है| एक इंजीनियर बनने के लिए उम्मीदवारों को इसे जुड़े चरणों का पालन करना पड़ता है साथ ही इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम को समझने की समता का होना अति आवश्यक है|

जूनियर इंजीनियर कौन होता है? Who is the Junior Engineer –

आवासीय और औद्योगिक विकास परियोजनाओं सहित सार्वजनिक कार्यों और परियोजनाओं की योजनाए बनाने से संबंधित, डिजाइन और निर्माण करने का कार्य जेई (जूनियर इंजीनियर) का होता है|

जूनियर इंजीनियर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता Eligibility Criteria Junior Engineer-

जूनियर इंजीनियर बनने के लिए स्नातक होने के लिए दो ऑप्शन (options) है-

पहला विकल्प- 10 वीं के बाद डिप्लोमा या पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग में डिप्लोमा प्राप्त किसी भी ट्रेड से कर सकते हैं|

दूसरा विकल्प- इंजीनियरिंग के लिए 10 + 2 के बाद डिग्री इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश ले सकते हैं|

जूनियर इंजीनियर बनने के लिए क्या करे What to do to become a Junior Engineer job-

10 वीं के बाद डिप्लोमा या पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग में डिप्लोमा प्राप्त किसी भी ट्रेड से करे-

  1. इच्छुक उम्मीदवार विभिन्न राज्य सरकारों और तकनीकी शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा को पास करने के बाद अपने पद के अनुसार डिप्लोमा कॉलेज में प्रवेश ले सकते है|
  2. डिप्लोमा पाठ्यक्रम के इन तीन साल पूरा करने के बाद डिप्लोमा इंजीनियर्स (Engineers) कनिष्ठ अभियंता स्तर पर काम कर सकते है या इंजीनियरिंग कोर्स (Engineering course) में डिग्री के दूसरे वर्ष में प्रवेश पाने के लिए competition का होना बहुत आवश्यक है| जो राज्य के रीजनल इंजीनियरिंग (Regional Engineering) कॉलेज के द्वारा प्रदान की जाती है| या इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त करने के लिए एक option (विकल्प) यह भी है– डिप्लोमा इंजीनियर AMIE (इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स के एसोसिएट सदस्यता) (Associate Member of the Institution of Engineers) के माध्यम से भी अपनी इंजीनियरिंग (Engineering) की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं|
  3. AMIE – औपचारिक इंजीनियरिंग शिक्षा कार्यक्रम, जिसे संघ लोक सेवा आयोग, राज्य सरकारों और सार्वजनिक / निजी क्षेत्र के संगठनों के लिए सरकार द्वारा इंजीनियरिंग की डिग्री के समकक्ष रूप से मान्यता प्राप्त हो|

जूनियर इंजीनियर लिए 10 + 2 के बाद डिग्री इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश ले-

  1. इंजीनियरिंग कोर्स में Graduation करने के लिए प्रतिष्टित संस्थान से PCM से कम से कम 60% अंकों के साथ मुख्य विषयों के रूप में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित के साथ 12वी कक्षा नॉन-मेडिकल स्ट्रीम से पास की हुई होनी चाहिए|
  2. अभ्यर्थी विभिन्न राज्य विश्वविद्यालयों से AIEEE और स्वतंत्र संस्था तथा केंद्र सरकार संगठनो द्वारा आयोजित प्रवेश के लिए परीक्षा दे सकते है| उम्मीदवार को प्रवेश परीक्षा में उनकी योग्यता के अनुसार 4 साल की डिग्री कार्यक्रम के लिए कॉलेज में प्रवेश मिल सकता है|
  3. डिग्री कोर्स के सफल होने तथा आवश्यक इंटर्नशिप (an internship) के बाद उम्मीदवार सहायक इंजीनियर के रूप में सरकार, अर्ध सरकारी या प्राइवेट क्षेत्र (sector) में कार्य कर सकते है|
  4. डिग्री अभियंता E. और (पीएच.डी) PHD. के रूप में उच्च अध्ययन कर सकते है|

जूनियर इंजीनियरिंग में करियर की संभावना Junior Engineer Career and opportunity-

जूनियर इंजीनियर (जेई) में करियर की संभावना इस प्रकार है- (Possibility of engineer careers)

  1. जेई
  2. एई
  3. SDE
  4. AEE
  5. XEN
  6. एसई
  7. अधीक्षण अभियंता
  8. उप मंडल अभियंता
  9. सहायक इंजीनियर (कार्यकारी)
  10. मुख्य अभियंता (शीर्ष अधिकांश पोस्ट)
  11. जूनियर इंजीनियर (डिप्लोमा इंजीनियर)

जूनियर इंजीनियर के कार्य व दायित्व (जेई) Job Responsibilities for JE Junior Engineer-

एक नए भर्ती जूनियर इंजिनियर को संबंधित आवंटित सरकारी संगठनों में किसी एक अनुभाग का प्रभार दिया जाता हैं और वह अपने-अपने विभागों में दिए गए विभिन्न कार्य के लिए जिम्मेदार होगे| इन कार्यों में सबसे पहले मजदूरों द्वारा किए गए दैनिक कार्य का पर्यवेक्षण सम्मिलित है ताकि अगले दिन के लिए कार्य का आवंटन और सुपरविज़न के योजना बनायीं जा सकें

जूनियर इंजीनियर की सैलरी Salary for junior engineer-

निजी क्षेत्र में डिग्री इंजीनियर की सैलरी शुरुआत में लगभग 15,000 से ₹20000 से बीच में होती है साथ ही अनुभव से साथ बढती भी है| सरकारी क्षेत्र के पदों में जुड़े के साथ इन्हें उपयुक्त सुविधाओं के अलावा अन्य भत्तों और मुआवजा भी दिया जाता है, चिकित्सा व्यय के साथ ही उनके परिवार के सदस्यों आश्रितों को (एलटीसी) LTC के रूप में छूट मिलती है|

FAQ-

प्रश्न- जूनियर इंजीनियर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता क्या होनी चाहिए?

उत्तर- जूनियर इंजीनियर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता (स्नातक) ग्रेजुएशन डिप्लोमा या पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग डिप्लोमा किसी भी ट्रेड से प्राप्त होना चाहिए|

प्रश्न- जूनियर इंजीनियर (जेई) के कार्य क्या होते है?

उत्तर- एक नए भर्ती जूनियर इंजिनियर (जेई) से संबंधित आवंटित सरकारी संगठनों में किसी एक अनुभाग का प्रभार दिया जाता हैं और वह अपने-अपने विभागों में दिए गए विभिन्न कार्य के लिए जिम्मेदार होगा। इन कार्यों में सबसे पहले मजदूरों द्वारा किए गए दैनिक कार्य का पर्यवेक्षण सम्मिलित है ताकि अगले दिन के लिए कार्य की Allocation और सुपरविज़न की योजनाए बनाई जा सके|

प्रश्न- जेई की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- जेई की सैलरी शुरुआत में लगभग 15,000 से ₹20000 से बीच में होती है साथ ही अनुभव से साथ बढती भी है|

Question- What is the full form of JE?

Answer- The full form of JE is junior engineer.           

Question- What do you mean by junior engineer?

Answer- To perform professional and technical civil engineering work in the design, construction and maintenance of public works facilities for Junior Engineer entry level class in the professional engineering series.

Question- How much is a junior engineer?

Answer- The national average salary for a Junior Engineer is ₹50,600 in United States.

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बने How to become a Software Architect Career

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट बनने के लिए क्या करे रोजगार एवं संभावनाएं Software Architect Job Skills-

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बने How to become a Software Architect Career सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट कैसे बने क्या करे- Software Architect का काम काफी जिम्मेदारी भरा होता है| एक Software Architects बनने के लिए व्यवसाय और तकनीक की अच्छी समझ होनी आवश्यक है क्योंकि उसे न सिर्फ Software Architect का खाका खींचना होता है बल्कि मॉडल में कंपनी और ग्राहक की जरूरतों के मुताबिक बदलाव भी करने पड़ते है| इस क्षेत्र से जुड़े प्रोफेशनल्स जो स्वतंत्र रूप से कार्य करना चाहते हैं या सरकारी नौकरी करना चाहते हैं तो उन्हें काउंसिल ऑफ आर्किटेक्चर (COA) में रजिस्ट्रेशन (registration) कराना पड़ता है| सीओए एक सरकारी निकाय है। विदेशों में भी इस क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए बेहतर संभावनाएं हैं|

       इसके अलावा प्री-डिजाइन फेज में सही डिजाइन को लाना होता है| इसके बाद डोमेन एनालिसिस फेज आता है| जिसके तहत जरूरी क्षेत्रों को डाक्यूमेंटेशन किया जाता है| इसके बाद प्रोटोटाइप तैयार किया जाता है और साथ में रिस्क फैक्टर का अनुमान लगाया जाता है| इसके अलावा कस्टम ऑपरेटरों को प्रशिक्षित करना भी नई प्रणाली की सफलता के लिए आवश्यक माना जाता है| इसलिए Software Architect को उनके प्रशिक्षण और नई प्रणाली के रखरखाव की व्यवस्था भी करनी पड़ती है| एक सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट के लिए संभावनाओं का अच्छा होना जरूरी है| अगर आपके अंदर अपने काम को कुशलतापूर्वक करने की क्षमता है तो आप जल्द ही सफलता की सीढिय़ां चढ़ सकते है| इस क्षेत्र से संबंधित पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स भी करियर को ऊंचाई तक पहुंचाने में सहायक है|

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट के कार्य क्या है? The Role, Skills, and Duties for Software Architect-

सॉफ्टवेयर ऑर्किटेक्ट्स का काम किसी बिल्डिंग या स्ट्रक्चर के लिए प्लानिंग के साथ-साथ डिजाइन को तैयार करने का होता है| ऑर्किटेक्ट client के बजट के अनुसार Construction की Planning करने में माहिर होते हैं|

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट बनने के लिए योग्यता Required Eligibility Criteria to become a Software Architect-

Software Architect बनने के लिए योग्यता 10+2 की पढ़ाई मान्यता प्राप्त बोर्ड से करें| इसके बाद कम्प्यूटर साइंस या सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन कोर्स कम्पलीट करें| किसी भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए जरूरी है कि वह नये सॉफ्टवेयर लैंग्वेजेज से Update रहे साथ ही सॉफ्टवेयर पैकेज में शामिल हों जिसे आप पढ़ने में और उस क्षेत्र में काम करने में दिलचस्पी रखते हो| आईटी के साथ BE, B.Tech, ME, M.Tech होना जरूरी है| इसके अलावा सिस्टम आईटी में विशेष योग्यता के साथ एमबीए (MBA) करने वाले अभ्यर्थी भी इस क्षेत्र में अपना भाग्य आजमा सकते है|

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट और सॉफ्टवेयर इंजीनियर में फर्क क्या है Difference between software architect and software engineer-

Software Architect और सॉफ्टवेयर इंजीनियर दोनों ही प्रोफेशनल्स है साथ ही एक ही क्षेत्र में सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग का काम करते है| हालांकि यह एक ही क्षेत्र में काम करते हैं फिर भी दोनों की जॉब प्रोफाइल कई मायनों में भिन्न होती है| सॉफ्टवेयर इंजीनियर के कार्य क्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न टास्क के लिए डिजाइनिंग, कोडिंग औ रसॉफ्टवेयर के निष्पादन के कार्य होते है| जबकि सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट को  सॉफ्टवेयर के पूरे development का Design तैयार करता होता है लेकिन उनके कार्यक्षेत्र में कोडिंग (Coding) शामिल नहीं होती| सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट अपने Clients से बात करके उनकी आवश्यकताओं को समझते है और साथ ही सॉफ्टवेयर इंजीनियर का काम Software Architect के Instruction का पालन करना माना जाता है|

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट के लिए रोजगार एवं संभावनाएं software architect job skills

Software Architect के रूप में कैंडीडेट कम्प्यूटर, आईटी और सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री से संबंधित सरकारी या प्राइवेट सेक्टर की किसी भी कंपनी में अवसर पा सकता है| अगर कैंडीडेट के पास सॉफ्टवेयर डिजाइन और एनालिसिस में प्रोफेशनल Experience है तो बेहतर अवसर मिल सकते है| आर्किटेक्ट चाहे तो सॉफ्टवेयर इंस्टीट्यूट्स, आईटी इंडस्ट्री के साथ ही कम्प्यूटर कोचिंग सेंटर में भी रोजगार पा सकते हैं| ऐसे क्षेत्र जिनमें एप्लीकेशंस और मोबाइल डिवाइस भी शामिल है| समय के अनुसार बढ़ते Software प्रोग्राम्स की मांग के कारण Software Architect के सामने ढेरों विकल्प मौजूद हैं| इस क्षेत्र में सफलता के लिए Candidate की Creativity, Customer service skills और समस्याओं का समाधान करने की क्षमता रखना बेहद ही जरूरी है| कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में उच्च शिक्षा भी अतिरिक्त लाभ देती है| यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें वेतन भी काफ़ी अच्छा मिलता है| जिन स्टूडेंट्स की पकड Physics और Math विषय में अच्छी होती है, वह इस क्षेत्र में बेहतर कार्य कर सकते हैं| खासबात यह है कि स्टूडेंट्स में स्के्रच और डिजाइन तैयार करने के प्रति रूचि होनी बहुत जरूरी है| कई बार ऑर्किटेक्ट को लीगल वर्क भी करना पड़ता है| इसलिए जरूरी है कि कानून की भी कुछ न कुछ जानकारी अवश्य हो| एक ऑर्किटेक्ट की अच्छी Communication skills के साथ-साथ डेस्क और साइट (site) पर काम करने की भी काबिलियन होनी चाहिए|

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट की सैलरी Salary for software architect job skills-

Software Architect की सैलरी अच्छी होती है| एक Software Architect की सैलरी लगभग 15,000 से 20,000 रुपये तक के बीच में हो सकती है पर साथ ही काबिलियत के अनुसार बढती भी रहती है| दो से चार साल के अनुभव के बाद आपकी मासिक सैलरी ₹30000 रुपये से अधिक भी हो सकती है|

FAQ-

प्रश्न- सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए?

उत्तर- सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट बनने के लिए योग्यता10+2 की पढ़ाई मान्यता प्राप्त बोर्ड से करें| इसके बाद कम्प्यूटर साइंस या सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन कोर्स कम्पलीट करें| किसी भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए जरूरी है कि वह नये सॉफ्टवेयर लैंग्वेजेज से Update रहे|  आईटी के साथ BE, B.Tech, ME, M.Tech होना जरूरी है| इसके अलावा सिस्टम आईटी में विशेष योग्यता के साथ एमबीए (MBA) करने वाले अभ्यर्थी भी इस क्षेत्र में अपना भाग्य आजमा सकते है|

प्रश्न- सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट की सैलरी लगभग 15,000 से 20,000 रुपये तक के बीच में होती है और साथ ही काबिलियत के अनुसार बढती भी रहती है|

Question- What is the work of software architects?

Answer- The work of Software Architects is to design a design as well as planning for a building or structure. According to the budget of the architect client, specializes in planning the construction.

Question- How do you become a software architect?

Answer- To become a software architect are-

  1. Build software,
  2. Seek an internship,
  3. Find job opportunities,
  4. Study Physics and Maths,
  5. Consider your career goal,
  6. Earn a degree in this field,
  7. Begin programming immediately

Question- How many years study for software architects?

Answer- Becoming a computer engineer requires an extensive college education that can take from four to seven years to complete. In the first two years of a bachelor’s degree program, students typically finish computer architect engineering prerequisites and general education courses.

सीईओ ऑफिसर कैसे बने How to become a CEO Chief Executive Officer

सीईओ तैयारी करके जॉब कैसे पाए How get JOB in CEO Officer Requirements

सीईओ ऑफिसर कैसे बने How to become a CEO Chief Executive Officer सीईओ ऑफिसर कैसे बने और क्या करे- कई लोग है जो कि CEO Officer बनने का सपना देखते है और उस सपने को पूरा करने का भी जूनून रहते है साथ ही CEO Officer बनने के लिए इसके बारे में पता होना भी अति आवश्यक है| सीईओ की हर कंपनी में सबसे बड़ी पोस्ट रहती है जिसे कंपनी का हर एम्प्लायर हासिल करना चाहता है|

क्योंकि सभी कंपनी के employees एक सीईओ के अंदर काम करते है और सीईओ उनसे जो करने के लिए कहता है उस काम को उन्हें करना ही पड़ता है| लेकिन किसी दूसरे की कंपनी का CEO बनने से आसान (how to become a ceo after 10th) खुद की कम्पनी का CEO बनना है| CEO बने के लिए आपको अपनी कंपनी के बाकी एम्प्लॉयर्स के साथ अच्छे रिलेशन रखने होंगे और मेहनत के साथ अपना काम करना होगा, कंपनी के लिए उपयोगी आइडियाज कंपनी के ओनर को सजेस्ट करने होते है ताकि वह आपके काम से खुश रहे और प्रोमोशन के रस्ते मिलते रहे| यहाँ पर आपको CEO कैसे बने क्या करे क्या ceo का पूरा नाम (full form) क्या है CEO क्या होता है CEO किसे कहते है इसकी पूरी जानकारी दी जा रही है|

सीईओ ऑफिसर बनने के लिए क्या करे Qualities for CEO Training-

सीईओ क्या है? What is CEO-

CEO का पूरा नाम यानि Full form “Chief Executive Officer” सीईओ एक कंपनी या संस्था का मुख्य अधिकारी होता है यानि कंपनी या एक संस्था में होने वाले प्रत्येक काम की जिम्मेदारी CEO की होती है| एक कंपनी या संस्था को किस दिशा में लेकर जाना इसका कार्यभार भी Chief Executive Officer का ही होता है| जैसे कौन-सा मार्केट कंपनी के ये फायदेमंद है या किस कंपनी के साथ पार्टनरशिप करना लाभ देगा आदि| एक कंपनी में कोई भी बड़े कार्य के लिए एक टीम बनाना भी सीईओ का ही कार्य है अब देख जाये तो एक कंपनी को किस तरह से चलाना है इसका पूरा कार्यभार CEO का ही होता है| CEO को मुख्य अधिकारी या (Managing director) भी कहा जाता है| CEO यानि Chief Executive Officer को हिंदी में “मुख्य कार्यकारी अधिकारी” भी कहा जाता है|

सीईओ बनने के लिए MBA करे The education and training requirements for a CEO-

सीईओ ऑफिसर बनने के लिए mba करना जरूरी है| कोई भी कंपनी हो, जो इंसान mba नही करता वह किसी भी कंपनी का CEO कभी नहीं बन सकते है|  इसलिए सबसे पहले आपको mba की डिग्री लेने की जरूरत है| आपको अपने academic field में mba की डिग्री लेने की जरूरत है| आपके पास mba की डिग्री नही है तो आपके लीडरशिप स्किल का भी कोई फायदा नही हो सकता| जब आपके पास दोनों ही quality होगी तभी आप आसानी से आगे चलकर कंपनी के CEO बन सकते है|

सीईओ बनने के लिए अपनी बात को लोगो के सामने रखें Simple Ways to Get make connections early for CEO –

सीईओ ऑफिसर बनने के लिए अपनी बात को लोगो के सामने रखें इसे अपने उद्योग पर विशेष दृष्टिकोण के साथ रहें और ऑफ़लाइन और ऑनलाइन के माध्यम से इंडस्ट्री के ट्रेंड और (Simple Ways to Get CEO Possible point of views) अन्य संबंधित जानकारी पर अपने विचारों को प्रकाशित करने के लिए एक व्यक्तिगत ब्लॉग बनाके चलिए| लेकिन अपनी एम्प्लायर रेपुटेशन को कम होने से बचे| आप अपनी कंपनी की ओर से बिजनेस मैगज़ीन के लिए आर्टिकल सबमिट कर सकते हैं लेकिन यह कंपनी की अनुमति के साथ किया जाना चाहिए|

सीईओ बनने के लिए डिग्री के बाद रिज्यूम दें Business Insider Resume after degree for CEO job-

सीईओ ऑफिसर बनने के लिए डिग्री के बाद आपको नौकरी पाने की जरूरत होती है और नौकरी पाने के लिए इंटरव्यू को सफल बनाने के लिए आप अपना अच्छा रिज्यूम बनाइए जिसे देखकर कंपनी का मैनेजर आकर्षित होगे और साथ ही आपको नौकरी अच्छी मिल सकती है| मिडल लेवल पोजीशन पाने के लिए आप अपने रिज्यूम में अपनी लीडरशिप, कम्युनुकेशन स्किल को हाईलाइट करके भी रख सकते है|  अगर अपने किसी कंपनी से थोड़ा भी Experience gain किया है तो उस कंपनी के फायदे के लिए कोई भी काम किये थे अगर तो वह सब भी अपने रिज्यूम में लिखे| आपको अपने रिज्यूम में हर गुणों का उल्लेख करना चाहिए जिसकी वजह से आपकी कंपनी को बहुत फायदा भी मिल सकेगा| अगर आप अपने गुणों की लिस्ट बनाके रखेगे तो आप उस कंपनी में जहां काम करेगे वहां बाकी एम्प्लायर के प्रति एक सकारात्मक प्रतिष्ठा हासिल कर सकेंगे|

सीईओ ऑफिसर बनने के लिए लीडर शिप करें Develop the Right Skills and Leadership styles to be CEO-

किसी भी कंपनी में अपनी पोजीशन बनाने के लिए हमे एक लीडर बनना बहुत जरूरी है| आपके हर स्टेप (step) पर आपको लीडरशिप की हर संधियों को ढूंढना होगा ताकि आप बाकी एम्प्लायर (employer) के लीडर के रूप में उभर कर आये और आप सीईओ बनने के लायक हो सकें| अगर आप सेल पर्सन के टीम में है तो आपको उस काम मे भी लीडरशिप करनी होगी| क्योंकि जब आप लीडरशिप करेंगे तो सारी अचिवमेंट आपके नाम पर होगी उसी अचिवमेंट से आप अपनी cv को इम्प्रोव कर सकेंगे|

सीईओ बनने के लिए कंपनी के लोगो के साथ अच्छा नेटवर्क बनाके चलि CEO education requirements Make connections early-

अगर आप अपने कंपनी के एम्प्लॉयर्स के साथ अच्छा नेटवर्क बनायेगे तो आप अपनी प्रोफाइल को और बेहतर और सुधार ला सकेंगे और लोगो के मन मे लीडर बनने के लिए सीईओ ऑफिसर के लिए अप्लाई कर सकते है| इसके अलावा आप दूसरी कंपनियों के इवेंट में शामिल हो जाये ताकि आप दूसरे कंपनी के सीईओ से मिल सकें और उनके कंपनी के प्रति उनका दृष्टिकोण (कैसे सोच विचार और भावनाए है ) देखके सिख सकें| इसके अलावा, कार्यकारी-स्तर के अवसरों के बारे में जानने के लिए अपने पूर्व नियोक्ता और सहकर्मियों के संपर्क में रहना भी अति आवश्यक है|

सीईओ बनने के लिए सेमिनार को अटेंड करें Employees Should Attend Conferences for CEO-

जब आप किसी भी कंपनी में होते है तब समय समय पर कंपनी के सेमिनार होते है तब आपको इंडस्ट्री ग्रुप द्वारा आयोजित किये गए वीकेंड सेमिनारों को अटेंड करना बहुत आवश्यक है क्योंकि आपको इन सेमिनार को अटेंड करके बहुत फायदे मिल सकेगे और यह सेमिनार आपकी नई तकनीक के साथ ट्रेडिशनल मैनेजमेंट प्रैक्टिस (Traditional Management Practice) को एकीकृत करने में मदद कर सकेगे साथ ही आप टेक्नोलॉजी ट्रेंड (Technology trends) के साथ बराबर में आगे की ओर बढ़ सकेगे|

सीईओ ऑफिसर की सैलरी Salary for CEOChief Executive Officer

संयुक्त राज्य अमेरिका ने 2012 में सीईओ के लिए औसत वार्षिक वेतन 168,140 किया था| बड़े, बहुराष्ट्रीय निगमों के सीईओ इस राशि से काफी अधिक कर सकते हैं साथ ही छोटे संगठनों के सीईओ (personality types of ceo) काम कर सकते हैं| सीईओ की सैलरी बहुत अच्छी मानी जाती है और CEO का खुद का एक नाम भी होता ही है| सीईओ ऑफिसर बनने के लिए क्या करे Qualities for CEO Training- की सैलरी लगभग ₹20000 से ₹40000 तक के बीच एम होती है और अपनी काबिलियत के अनुसार बढती भी रहती है|

FAQ-

प्रश्न- CEO का मतलब क्या होता है?

उत्तर- CEO का होना कोई छोटी बात नहीं है| उनकी तनख्वाह करोड़ों में होती है| उनके कार्य भी आम Employee से कहीं अधिक जिम्मेदारी वाले होते है|  

प्रश्न- सीईओ का पूरा नाम क्या है|?

उत्तर- CEO का पूरा नाम यानि Full form “Chief Executive Officer” है| CEO को मुख्य अधिकारी या (Managing director) भी कहा जाता है| CEO यानि Chief Executive Officer को हिंदी में “मुख्य कार्यकारी अधिकारी” भी कहा जाता

प्रश्न- सीईओ ऑफिसर कौन होता है?

उत्तर- सीईओ ऑफिसर एक कंपनी या संस्था का मुख्य अधिकारी होता है यानि कंपनी या एक संस्था में होने वाले प्रत्येक काम की जिम्मेदारी CEO की होती है| एक कंपनी या संस्था को किस दिशा में लेकर जाना इसका कार्यभार भी Chief Executive Officer का ही होता है| जैसे कौन-सा मार्केट कंपनी के ये फायदेमंद है या किस कंपनी के साथ पार्टनरशिप करना लाभ देगा आदि| एक कंपनी में कोई भी बड़े कार्य के लिए एक टीम बनाना भी सीईओ का ही कार्य है अब देख जाये तो एक कंपनी को किस तरह से चलाना है इसका पूरा कार्यभार CEO का ही होता है|

Question- What is the full form of CEO?

Answer- The full form of CEO is Chief Executive Officer.

Question- What do you need to be a CEO?

Answer- A Masters in Business Administration (MBA) that builds on studies earned during a bachelor’s degree program will open the doors to people interested in a career as a CEO particularly in large corporations.

Question- How much money does a chief executive officer make a year?

Answer- The average annual salary for Chief Executive Officer is ₹20000 to ₹40000 and with a range usually varies widely depending on a variety of factors.

सीबीआई कैसे बना जाए पूरी जानकारी How to become a CBI Officer after 12th

सीबीआई परीक्षा की तैयारी कैसे करे Preparation Tips CBI Officer Recruitment Process  

सीबीआई कैसे बना जाए पूरी जानकारी सीबीआई कैसे बने (CBI Officer kaise bne)- CBI का पूरा नाम केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो है| यह भारत सरकार की एक मुख्य जांच एजेंसी है। इस एजेंसी के माध्यम से सुरक्षा से सम्बंधित समस्याओं को सुलझाने का काम करती है|  भारत देश की सुरक्षा से संबंधित विभिन्न मुद्दों को हल करने के लिए भी केंद्रीय जांच ब्यूरो की मदद ली जाती है।

सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इंवेस्टीगेशन से पहले इसका नाम स्पेशल पुलिस इस्टेबलिशमेंट (Special Police Establishment) अर्थात एसपीई (SPE) था, जिसकी स्थापना 1941 में भारत सरकार ने की थी। ‘केन्‍द्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो (Central bureau of investigation)’का नाम गृह मंत्रालय द्वारा 1963 में रखा गया| केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो में अलग अलग पदों पर भर्ती दो प्रक्रियाओं के आधार पर की जाती है ,पहली प्रक्रिया में यह भर्ती, SSC द्वारा की जाती है और दूसरी प्रक्रिया में डेपुटेशन (Deputation) के आधार पर अर्थात यदि आप केंद्र या राज्य पुलिस या अन्य महत्वपूर्ण सेवा में हैं,तो आप सीबीआई में जा सकते हैं| सीबीआई में सीधी भर्ती सिर्फ और सिर्फ सब इंस्पेक्टर या दरोगा रैंक के लिए होती हैं और यह भर्ती को एसएससी (SSC) द्वारा की जाती है| यहाँ पर आपको CBI officer कैसे बने, योग्यता, सैलरी और चयन प्रक्रिया आदि की जानकारी दी जा रही है|

सीबीआई क्या है? What is the CBI-?

CBI यानी केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो भारत सरकार की प्रमुख जाँच एजेन्सी है| इस एजेंसी के माध्यम से राष्ट्रीय सुरक्षा से सम्बंधित अनेक प्रकार के मामलों की जाँच करायी जाती है| CBI कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग के अधीन कार्य करती है| सीबीआई एक बहुआयामी, बहु-अनुशासनात्मक केंद्रीय पुलिस, क्षमता, विश्वसनीयता और विधि शासनादेश का पालन करते हुए जाँच करने वाली एक विधि प्रवर्तन एजेंसी है और यह भारत में कहीं भी अपराधों की जांचो का पता लगाते है|

सीबीआई ऑफिसर बनने की योग्यता Eligibility Criteria for CBI Officer Job-

CBI ऑफिसर बनने के लिए उम्मीदवारों के  55% अंकों के साथ ग्रैजुएट होना चाहिए साथ ही अभ्यर्थी को सीजीएल एसएससी परीक्षा पास करना आवश्यक है, अभ्यर्थी CBI Officer बनने के लिए आवेदन कर सकते है|

सीबीआई ऑफिसर की आयु सीमा Age limit for CBI Officer Requirement-

CBI यानी केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो की आयु सीमा लगभग 20 वर्ष से 27 साल तक के बीच में होनी चाहिए और OBC अभ्यर्थियों को 3 साल तथा SC/ST अभ्यर्थियों को 5 साल की छूट दी जाती है|

सीबीआई परीक्षा की चयन प्रक्रिया Selection process for Central Bureau Of Investigation-

(CBI) केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो की परीक्षा, लिखित एवं इंटरव्यू इन दो भागो में विभाजित की गई है|  लिखित परीक्षा का पूर्णांक 400 अंको का होता है, इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने के पश्चात आपको साक्षात्कार हेतु बुलाया जाता है , साक्षात्कार कुल 100 अंकों का होता है | साक्षात्कार में उत्तीर्ण होने के पश्चात सीबीआई में भर्ती होने का ज्वाइनिंग लेटर दे दिया जाता है | सी.बी.आई ऑफिसर बनने के लिए और सी.जी.एल परीक्षा को पास करने के लिए आपको थोड़ा बहुत ज्ञान इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, राजनीति, सामान्य ज्ञान, इंग्लिश, हिंदी, गणित आदि पूछे जाते है| उन सभी विषयों का ज्ञान होना अनिवार्य है|

सीबीआई परीक्षा की तैयारी कैसे करे How to prepare for CBI exams tips-

  1. अपनी पढ़ाई समय के अनुसार सही से करे|
  2. पढ़ाई करते समय अपना ध्यान सिर्फ अपनी पढ़ाई पर ही केंद्रित रखें, इधर उधर ध्यान बिलकुल भी न दें|
  3. अभ्यास अधिक से अधिक करने का प्रयास करें और एक दिन में कम से कम 10 से 12 घण्टे पढ़ाई करे|
  4. सीबीआई परीक्षा सभी कठिन परीक्षाओ में से एक है, इसलिए आपको उतनी ही अधिक मेहनत करनी पडती है|
  5. इस परीक्षा के लिए अपने सीनियर्स की भी मदद ले, जब कही पर आपको समझ में ना आये उनसे उसके बारे में पुछे|

सीबीआई बनने के लिए आवश्यक गुण Qualities and Responsibilities for CBI Officer

  1. तीव्र, विश्लेषणात्मक मन / शारीरिक फिटनेस
  2. सहनशीलता / यात्रा करने की शक्ति
  3. मानसिक सतर्कता / एकाग्रता का उच्च स्तर
  4. अवलोकन की उत्सुक शक्तियां
  5. तर्कसंगत, रेशनल और विश्लेषणात्मक सोच
  6. लंबे, अनियमित काम के घंटे के अनुकूल कार्य करने की योग्यता
  7. दूरस्थ और खतरनाक क्षेत्रों में काम करने की शक्ति अदि|
सीबीआई की सैलरी Salary of Central Bureau Of Investigation job-

CBI (Central Bureau Of Investigation) की सैलरी काफी अच्छी मानी जाती है| CBI (Central Bureau Of Investigation) पद की सैलरी लगभग ₹9300 से ₹34800 रुपये तक के बीच में होती है और साथ ही अन्य सरकारी सुविधाएँ भी मिलती है|

FAQ-

प्रश्न- सीबीआई को कहते क्या है?

उत्तर- सीबीआई को केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो यानी (Central Bureau Of Investigation) कहते है|

प्रश्न- CBI ऑफिसर परीक्षा की चयन प्रक्रिया क्या है?

उत्तर- CBI ऑफिसर परीक्षा की चयन प्रक्रिया यह है-

  1. लिखित परीक्षा
  2. साक्षात्कार (इंटरव्यू)
  3. शारीरिक योग्यता

प्रश्न – सीबीआई की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- सीबीआई की सैलरी लगभग ₹9300 से ₹34800 तक के बीच में होती है|

Question- What is a CBI?

Answer- A Central Bureau of Investigation (CBI) is the premier investigating agency of India. Operating under the jurisdiction of the Ministry of Personnel, Public Grievances and Pensions, the CBI is headed by the Director.

Question- What is the full form of CBI?

Answer- The full form of CBI is Central Bureau of Investigation.

Question- What is the eligibility of CBI officer?

Answer- The eligibility of CBI officer r Candidates for the qualification should have a passed 12th from any recognized university.

Question- What is the age limit for the CBI Officer Job?

Answer- The age limit of the CBI Officer should be from 21 years to 27 years and the candidates belonging to Scheduled Caste / Scheduled Tribes and Other Backward Classes are given 5 and 3 years of age.

ग्राम विकास अधिकारी कैसे बना जाए How to become a VDO officer in Hindi

VDO ऑफिसर बनने के लिए क्या करे पूरी जानकारी Village Development Officer scope and career opportunities

ग्राम विकास अधिकारी कैसे बना जाए How to become a VDO officer in Hindiग्राम विकास अधिकारी कैसे बने और क्या करे- आज कल के समय में सभी लोग कोई ना कोई सपना बनाके चलते है और उस सपने को पूरा करने का जूनून भी रखते है| (VDO officer kaise bne) ग्राम विकास अधिकारी एक अराजपत्रित सरकारी कर्मचारी होता है, जिसे ग्राम प्रधान का सचिव कहा जाता है साथ ही इसे पंचायत सेवक भी कहा जा सकता है, वर्तमान समय में सरकार ने पंचायत सेवक के नाम को (परिवर्तित) बदलकर ग्राम विकास अधिकारी (VDO) Village Development Officer कर दिया गया है,  ग्राम पंचायत अधिकारी और ग्राम विकास अधिकारी एक ही पद के दो नामो से जुडी हुई है| VDO ऑफिसर पंचायती राज विभाग का कर्मचारी होते है, ग्राम विकास अधिकारी एक महत्वपूर्ण पद है| ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने इसे सम्बंधित पूरी जानकारी यहाँ पर दी जा रही है जिसे आपको मदद भी मिल सकेगी|

ग्राम विकास अधिकारी क्या है? What is Gram Panchayat

ग्राम विकास अधिकारी (VDO ऑफिसर) पंचायत सचिव एवं न्याय मित्र कहलाता है| ग्राम पंचायत के मुख्य जनप्रतिनिधि मुखिया, उपमुखिया, ग्राम पंचायत सदस्य, समिति, सरपंच व पंच आदि होते है|  ग्राम पंचायत सदस्य के अधिकार विभाजित होते है ताकि एक ग्राम पंचायत अच्छे (सुचारू) ढंग से कार्य कर सके| ग्राम पंचायत गांव या छोटे शहर के स्तर पर पंचायती राज व्यवस्था के भारत में एक स्थानीय स्व-सरकारी संगठन का आधार है, और सरपंच अपने निर्वाचित प्रमुख के रूप में है|

ग्राम विकास अधिकारी बनने की योग्यता Eligibility Criteria for VDO Officer Job-

ग्राम पंचायत अधिकारी यानी VDO बननें के लिए अभ्यर्थी को 12वीं पास होना आवश्यक है| इसके साथ ही अभ्यर्थियों के पास CCC कम्प्यूटर कोर्स में डिप्लोमा का होना भी आवश्यक है|

ग्राम विकास अधिकारी की आयु सीमा Age limit for VDO Officer Requirement-

वीडीओ (VDO) की आयु सीमा लगभग 18 वर्ष से 40 साल तक के बीच में होनी चाहिए और OBC अभ्यर्थियों को 3 साल तथा SC/ST अभ्यर्थियों को 5 साल की छूट दी जाती है|

ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा की चयन प्रक्रिया Selection process for Village Development Officer

  1. ग्राम पंचायत अधिकारी (Village Development Officer) के पद के लिए अभ्यर्थियों को सेवा चयन आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा में सम्मिलित होना होता है|
  2. अभ्यर्थियों का चयन तीन चरणों के माध्यम से होता है- प्रथम चरण में अभ्यर्थी को लिखित परीक्षा देनी होती है|
  3. प्रथम चरण में में सफल अभ्यर्थियों को VDO यानी ग्राम पंचायत अधिकारी परीक्षा की द्वितीय चरण यानी साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है तथा तृतीय चरण के अंतर्गत शारीरिक योग्यता की जाँच परीक्षा होती है|
  4. लिखित परीक्षा एवं साक्षात्कार में सफल अभ्यर्थियों को शारीरिक योग्यता जाँच परीक्षा के लिए बुलाया जाता है, जिसमें शारीरिक व्यायाम, 1 मील दौड़, लम्बी कूद, 4 मील सायकिल रेस एवं 2 मील टहलना आदि सम्मिलित होते है|
  5. लिखित परीक्षा के लिए एक घंटे तीस मिनट का समय प्राप्त होता है, जिसमें 30 अंक के 30 प्रश्न हिंदी और लेखन क्षमता से सम्बन्धित होंगे, 20 प्रश्न जनरल एप्टीट्यूड टेस्ट के, और 30 प्रश्न सामान्य जागरूकता से सम्बन्धित होंगे और साथ ही  साक्षात्कार के लिए 20 अंक निर्धारित किये हुए होते है|
ग्राम विकास अधिकारी के कार्य Responsibilities and Duties for VDO Officer Skills-

पंचायत सचिव के कार्य- VDO (ग्राम पंचायत का अधिकारी) पंचायत सचिव को पंचायत कार्यालय का प्रभारी कहा जाता है साथ ही यह पंचायत कार्यालय संबंधित कामों को देखते है| जिनमें सरकारी योजनाओं का लेखा जोखा देखना और रखना दोनों ही शामिल होते है| पंचायत के जनप्रतिनिधि द्वारा पास किया बजट और उनके कागजात संबंधी कामों को भी पंचायत सचिव ही देखते है|

न्याय मित्र के कार्य- न्याय संबंधित कार्यों की जिम्मेदारी सरपंच व पंच की होती है परंतु उनकी कागजी कार्रवाई एवं लेखा जोखा का कार्य न्याय मित्र का होता है जिसे न्याय सहायक के तौर पर देखा जा सकता है|

ग्राम पंचायत सदस्य के अधिकार Rights for Gram Panchayat Members-
  1. पूँजी कोष की जिम्मेदारी मुखिया की होती है,
  2. बैठकों का कार्य-व्यवहार संभालना और उनमें अनुशासन बनाए रखना,
  3. एक वर्ष समय में ग्राम सभा की कम से कम चार बैठकों का आयोजित करना,
  4. विभिन्न निर्माण कार्यों को लागू करना और फीसों की वसूली करवाना आदि शामिल है,
  5. ग्राम सभा व ग्राम पंचायत की बैठकों का आयोजित करना और उनकी अध्यक्षता करना,
  6. ग्राम पंचायत द्वारा पास की गई कार्य योजनाओं और प्रस्तावों का लागू करवाना,
  7. नियमानुसार रखी गई विभिन्न रजिस्टरों व पंचायत संबंधी कागजात के रख-रखाव का इंतजाम करना,
  8. ग्राम पंचायत में कार्य करते कर्मचारियों की देख रेख से लेकर दिशा निर्देश व नियंत्रण करना मुखिया के कार्य क्षेत्र में शामिल है आदि|
ग्राम पंचायत अधिकारी की सैलरी Salary of Village Development Officer job

वीडीओ (Village Development Officer) यानी Gram Vikas Adhikari की सैलरी काफी अच्छी मानी जाती है| वीडीओ यानी खंड विकास अधिकारी पद की सैलरी लगभग ₹5200 से ₹20200 रुपये प्रतिमाह तक के बीच में होती है और दूसरा इसके साथ-साथ अन्य सरकारी सुविधाएँ भी मिलती है|

FAQ-

प्रश्न- VDO को क्या कहते है?

उत्तर- वीडीओ को ग्राम पंचायत अधिकारी या ग्राम विकास अधिकारी यानी (Village Development Officer) कहते है|

प्रश्न- ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा की चयन प्रक्रिया क्या है?

उत्तर- ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा की चयन प्रक्रिया यह है-

  1. लिखित परीक्षा
  2. साक्षात्कार (इंटरव्यू)
  3. शारीरिक योग्यता

प्रश्न – ग्राम पंचायत अधिकारी की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- ग्राम पंचायत अधिकारी की सैलरी लगभग ₹5200 से ₹20200 तक के बीच में होती है|

Question- What is a Gram Panchayat?

Answer- A Gram Panchayat is the cornerstone of a local self – government organization in India of the Panchayati raj system at the village or small town level and elected head.

Question- What is the full form of VDO?

Answer- The full form of VDO is Village Development Officer (Gram Vikas Adhikari).

Question- What is the eligibility of Block development officer?

Answer- The eligibility of Block development officer Candidates for the qualification should have a passed 12th from any recognized university.

Question- What is the age limit for the BDO Officer Job?

Answer- The age limit of the BDO Officer should be from 18 years to 40 years and the candidates belonging to Scheduled Caste / Scheduled Tribes and Other Backward Classes are given 5 and 3 years of age.

कैसे बने बैंक में स्पेशलिस्ट ऑफिसर How to Become SO in Bank

बैंक में जॉब कैसे पाएं How to Get Job in Bank

कैसे बने बैंक मेंकैसे बने बैंक में SO- कई लोग है जो बैंक में नौकरी करने का सपना देखते है. बैंक में नौकरी पाने के लिए आपको मालूम होना चाहिए की बैंक में किन किन पोस्ट पर जॉब पायी जा सकती है. बैंकों में पीओ और क्लर्क के अलावा स्पेशलिस्ट ऑफिसर SO फील्ड के लिए भी नौकरी निकलती है. इसके अलावा बैंक में नौकरी पाने के इच्छुक लोगो को इससे रिलेटेड एग्जाम के बारे में जानकारी होनी चाहिए. कैसे बने बैंक में SO- आज हम आपको बैंक में SO पोस्ट से जुडी जानकारी देंगे जो लोग बैंक में स्‍पेशलिस्‍ट का प्रोफाइल देख रहे हैं तो उन्हें आज हम बताएँगे की आपके पास क्या अनुभव, क्‍वालिफिकेशन और विशेषज्ञता होनी चाहिए. तो चलिए जानते है बैंक में स्पेशलिस्ट ऑफिसर(SO) कैसे बने.

कैसे बने बैंक में स्पेशलिस्ट ऑफिसर (SO) पद

बैंकों में स्पेशलिस्ट ऑफिसर के विभागों के अनुसार ये पद निर्धारत किये जाते है. जो ज्यादातर राष्ट्रीयकृत बैंकों में समान ही होते हैं.

  1. इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी ऑफिसर
  2. एग्रीकल्चरल फील्ड ऑफिसर
  3. लॉ ऑफिसर
  4. एचआर/पर्सोनल ऑफिसर
  5. मार्केटिंग ऑफिसर
  6. ऑफिशियल लैग्वेज ऑफिसर

बैंक में स्पेशलिस्ट ऑफिसर बनने के लिए योग्यता

  1. व्यक्ति को भारत का नागरिक होना चाहिए.
  2. शैक्षिक योग्यता प्रत्येक ऑफिसर पोस्ट के लिए अलग-अलग शैक्षिक योग्यता निर्धारित की जाती है.

बैंक में स्पेशलिस्ट ऑफिसर की भर्ती प्रक्रिया

कैसे बने बैंक में SO- (IEBPS) भारतीय बैंकिंग वैयक्तिक संस्थान देश के राष्ट्रीयकृत बैंकों में स्पेशलिस्ट ऑफिसर की भर्ती के लिए ऑल इंडिया भर्ती परीक्षा का आयोजन करता है. इस परीक्षा में वही उम्मीदवार शामिल हो सकते है जो जिस फील्ड में स्पेशलिस्ट ऑफिसर बनना चाहते हैं के लिए निर्धारत शैक्षणिक/तकनीकी योग्यता रखते हैं. आइबीपीएस (IEBPS) के अलावा भारतीय स्टेट बैंक (SBI) भी स्पेशलिस्ट ऑफिसर के पदों पर भर्ती के लिए ऑल इंडिया लेवल परीक्षा करवाता है.

बैंक में SO बनने के लिए आयु सीमा

बैंक में SO पद के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 20 और अधिकतम आयु 30 वर्ष होनी चाहिए. भारत सरकार के कुछ नियमानुसार कुछ अनुसूचित जाति, जनजाति, विकलांग और एक्स सर्विसमैन को छूट दी गयी है.

  1. SC /ST- 5 साल
  2. OBS- 3 साल 
  3. PWD- 10 साल
  4. पूर्व सैनिक- 5 साल

चयन प्रक्रिया Selection Process –

बैंक के सभी स्पेशलिस्ट पदों पर चयन लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर किया जाता है. अगर आप भी स्पेशलिस्ट ऑफिसर SO का पद प्राप्त करना चाहते है तो इसके लिए आपको कोर्स की पढाई के साथ स्ट्रीम स्पेसलाइजेशन, IBPS SO सिलेबस की तैयारी भी करनी होगी.

FAQ_

प्रश्न- बैंक में SO कैसे बने?

उत्तर- बैंक में SO बनने के लिए इस परीक्षा में वही उम्मीदवार शामिल हो सकते है जो जिस फील्ड में स्पेशलिस्ट ऑफिसर बनना चाहते हैं के लिए निर्धारत शैक्षणिक/तकनीकी योग्यता रखते हैं.

प्रश्न- बैंक में स्पेसलिस्ट ऑफिसर के लिए आयुसीमा क्या है?

उत्तर- बैंक में SO पोस्ट के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 20 और अधिकतम आयु 30 वर्ष होनी चाहिए.

प्रश्न- बैंक में SO पद के लिए चयन प्रक्रिया क्या है?

उत्तर- बैंक के सभी स्पेशलिस्ट पदों पर चयन लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर किया जाता है.

Question- How to become SO in bank?

Answer- If you become SO in bank candidate who has a qualification academic / technical qualification for the related field in which the Specialist Officer wants to become.

Question- What is the age of SO post in bank?

Answer- Minimum age of candidates SO post in bank is 20 years and the maximum age are 30 years.

Question- What is the selection process for SO post in the bank?

Answer- All specialist post in the bank are selected on the basis of written examination and interview.

खंड विकास अधिकारी कैसे बने How to become a BDO Officer

बीडीओ परीक्षा की तैयारी कैसे करे BDO Exam Preparation tips in Hindi

खंड विकास अधिकारी कैसे बने How to become a BDO Officerखंड विकास अधिकारी कैसे बने- आज कल के समय में सभी लोग कोई ना कोई सपना बनाके चलते है और उस सपने को पूरा करने का जूनून भी रखते है| बीडीओ (BDO) को खंड विकास अधिकारी तथा ब्लाक विकास अधिकारी कहा जाता है|

विकास खंड का निर्माण अनेक पंचायतों को मिलाकर किया गया है| इसके मुख्यालय को सामुदायिक विकास केन्द्र कहा जाता है| विकास खंड और सामुदायिक विकास केंद्रों के सहयोग से जनविकास से सम्बंधित जन कल्याणकारी योजनाओं को लागू किया गया है| विकास खंड के प्रभारी अधिकारी को विकास खंड अधिकारी या बी डी ओ अर्थात ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर (Block development officer) भी कहा जाता है| यदि आपका भी सपना खंड विकास अधिकारी बनने का है तो इसके लिए आपको इससे सम्बंधित पूरी जानकारी जैसे पाठ्यक्रम, परीक्षा आदि के बारें में अच्छी तरह पता होना चाहिए| खंड विकास अधिकारी कैसे बने यहाँ पर आपको इसके  बारे में पूरी जानकारी दी गयी है जिसे आपको आसानी से मदद मिल सकेगी|

खंड विकास अधिकारी की योग्यता Eligibility Criteria for BDO Officer Job

खंड विकास अधिकारी की योग्यता के लिए उम्मीदवारों ने किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय (University) से ग्रेजुएशन पास किया हुआ होना चाहिए|

खंड विकास अधिकारी की आयु सीमा Age limit for BDO Officer Requirement-

बीडीओ (BDO) की आयु सीमा लगभग 21 साल से 40 साल तक के बीच में होनी चाहिए और OBC अभ्यर्थियों को 3 साल तथा SC/ST अभ्यर्थियों को 5 साल की छूट दी जाती है|

खंड विकास अधिकारी परीक्षा की चयन प्रक्रिया Selection process for BDO Officer Jobs

बीडीओ (BDO) पद के लिए अभ्यर्थियों का चयन लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के आधार पर किया जाता है| सबसे पहले लिखित परीक्षा का आयोजन किया जाता है| साथ ही लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण हुए अभ्यर्थियों को साक्षात्कार यानी (interview) के लिए बुलाया जाता है| बीडीओ (BDO) परीक्षा की चयन प्रक्रिया इस प्रकार है-

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा (Main Exam)
  3. साक्षात्कार (Interview)

बीडीओ अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)

बीडीओ (Block development officer) पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों को लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा में सम्मिलित होना होता है| इस परीक्षा में दो पेपर होते है तथा दोनों परीक्षाओं का समय दो घंटे तक का दिया जाता है| पहले पेपर में जनरल स्टडी से 150 प्रश्न पूछे जाते है जो कि 200 अंक के होते है और दूसरे पेपर में सीएसएटी से 100 प्रश्न पूछे जाते है जो कि 200 अंक के ही होते है| पेपर 2nd Qualifying पेपर है, जिसमें अभ्यर्थियों को न्यूनतम 33 प्रतिशत अंक प्राप्त करने आवश्यक है|

बीडीओ अधिकारी की मुख्य परीक्षा (Main Exam)-

मुख्य परीक्षा BDO Officer बनने के लिए दूसरा चरण होता है| प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा में सम्मिलित किया जाता है| इस परीक्षा में अभ्यर्थी द्वारा चुनें गये दो वैकल्पिक विषयों में से चार पेपर होते है| प्रश्नपत्रों में सामान्य हिंदी एवं निबंध के लिए 150-150 अंकों में दो प्रश्नपत्र और सामान्य अध्ययन के दो प्रश्नपत्र 200-200 अंकों के पूछे जाते है|

BDO Officer की साक्षात्कार (Interview)-

बीडीओ अधिकारी की दोनों परीक्षाओं में उत्तीर्ण हुए छात्रों को साक्षात्कार यानी interview के लिए अपने शैक्षिक प्रपत्रों के साथ बुलाया जाता है| इस परीक्षा में अभ्यर्थियों से अनेक प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है, लोक सेवा आयोग द्वारा एक मेरिट लिस्ट (Merit list) जारी की जाती है| इस मेरिट सूची के अनुसार चुने गये अभ्यर्थी को खंड विकास अधिकारी पद के लिए नियुक्त किया जाता है|  

बीडीओ परीक्षा की तैयारी कैसे करे How to prepare for BDO exam-

बीडीओ की परीक्षा में सफलता प्राप्त (preparation tips  for block development officer) करने के लिए अभ्यर्थियों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व तथा घटनाओं के बारें में, भारतीय इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के बारें में, विश्व भूगोल, भारतीय राजनीति और प्रशासन, सामाजिक विकास, पर्यावरण, सामान्य विज्ञान आदि| से सम्बंधित कर्रेंट अफेयर्स, न्यूज़पेपर आदि रोज पढ़ना चाहिए साथ ही अपनी self study पर भी focus करना चाहिए| इसके अलावा किताब पढ़ते समय महत्वपूर्ण points को मार्क करके चलिए इससे आपको समझने में आसानी होगी साथ ही आप इंटरनेट की मदद भी ले सकते है|

खंड विकास अधिकारी की सैलरी Salary for BDO Officer job-

बीडीओ की सैलरी काफी अच्छी मानी जाती है| बीडीओ यानी खंड विकास अधिकारी पद की सैलरी लगभग ₹9,300 से ₹35,000 रुपये प्रतिमाह तक के बीच में होती है और दूसरा इसके साथ-साथ अन्य सरकारी सुविधाएँ भी मिलती है|

FAQ-

प्रश्न – बीडीओ की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- बीडीओ की सैलरी लगभग ₹20,000 से ₹60,000 तक के बीच में होती है|

प्रश्न- बीडीओ को क्या कहते है?

उत्तर- बीडीओ को खंड विकास अधिकारी या ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर (Block development officer) कहते है|

प्रश्न- बीडीओ परीक्षा की चयन प्रक्रिया क्या है?

उत्तर- बीडीओ परीक्षा की चयन प्रक्रिया यह है-

  1. प्रारंभिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. इंटरव्यू

Question- What is the full form of BDO?

Answer- The full form of BDO is Block development officer.

Question- What is the eligibility of Block development officer?

Answer- The eligibility of Block development officer Candidates for the qualification should have a passed graduated from any recognized university.

Question- What is the age limit for the BDO Officer Job?

Answer- The age limit of the BDO Officer should be from 21 years to 40 years and the candidates belonging to Scheduled Caste / Scheduled Tribes and Other Backward Classes are given 5 and 3 years of age.

बैंक मैनेजर कैसे बने और क्या करे How to become a Bank Manager

बैंक मैनेजर बनने की महत्त्वपूर्ण जानकारी Bank Manager Details in Hindi

बैंक मैनेजर कैसे बने और क्या करे How to become a Bank Manager बैंक मैनेजर कैसे बने पूरी जानकारी- आज कल के समय में सभी लोग सरकारी नौकरी पाने की इच्छा रहती ही है| आप सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक के माध्यम से अपने करियर को चुन सकते है लेकिन दोनों बैंकों में चयन प्रक्रियाए अलग अलग है| किसी भी बैंक को अपने करियर के रूप में चयनित करने से पूर्व उसके बारें में पूर्ण जानकारी आवश्यक है|

Bank Manager एक ऐसा पद है जो कि भारत के हर व्यक्ति ग्रहण करना चाहता है क्योकि बैंक में जॉब करने से एक तो हमें अच्छी सैलरी मिलती है और दूसरा बैंक की तरफ से कई तरह की सुविधाओं के साथ समाज में इज्जत भी मिलती है | यहाँ तक की कई लोग Bank Manager को अपना एक ड्रीम बना लेते है की उन्हें अब बैंक में ही जॉब करनी है और मैनेजर बनना है जिसके लिए वह कड़ी मेहनत भी करते है और परीक्षा भी पास करते है इसीलिए अगर आप भी बैंक में मैनेजर बनना चाहते है तो इसके लिए आपको यहाँ पर पूरी जानकारी दी हुई है| आपको बैंक की नौकरी प्राप्त करने के लिए आईबीपीएस (IBPS) द्वारा आयोजित परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी ,जिसके लिए आपको नियमित परिश्रम करना होगा| आईबीपीएस (IBPS) लगभग 20 बैंकों हेतु अभ्यर्थियों का चयन कराती है| इस परीक्षा में प्रतिवर्ष लाखो की संख्या में अभ्यर्थी सम्मिलित होते है|

बैंक मैनेजर किसे कहते है? Who is the bank manager-?

एक Bank Manager वह व्यक्ति होता है जो बैंक की एक विशेष शाखाओ में से एक होते है और जो व्यवसायों और व्यक्तियों को धन उधार देने में शामिल है| साथ ही उसमे बैंक की सारी ज़िमेदारी सोपी जाती है जो कि लेन देन को अपने अनुसार Handle करते है| बैंक मैनेजर का पद काफ़ी उच्चा माना जाता है|

इसे भी पढ़े – IBPS एग्जाम की तैयारी कैसे करें

बैंक मैनेजर की योग्यता Eligibility Criteria for Bank Manager –

Bank Manager की योग्यता के लिए उम्मीदवारों ने किसी भी मान्यता प्राप्त University से ग्रेजुएशन पास किया हुआ होना चाहिए साथ ही Bank Manager बनने के लिए मनेजमेंट शिक्षा के अंतर्गत एमबीए या पीजीडीबीएम की डिग्री भी अनिवार्य है| अभ्यर्थी को कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए या एकाउंट से सम्बंधित कोर्स में डिप्लोमा भी हो सकता है|

बैंक मैनेजर की आयु सीमा Age limit for Bank Manager Jobs Requirement-

Bank Manager की आयु सीमा लगभग 21 साल से 32 साल के बीच तक की होनी चाहिए और अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 5 और 3 साल तक की छुट दी जाती है|

बैंक मैनेजर परीक्षा की चयन प्रक्रिया Selection process for Bank Manager Jobs-

बैंक मैनेजर परीक्षा की चयन प्रक्रिया इस प्रकार है-

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा (Main Exam)
  3. साक्षात्कार (Interview)

Bank Manager की प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)

Bank Manager बनने के लिए यह पहला चरण है| इस परीक्षा के द्वारा अभ्यर्थी की योग्यता परखी जाती है| इस परीक्षा के माध्यम से अभ्यर्थियों को योग्यता के अनुसार चयन किया जाता है| यह परीक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण होती है और इस परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों को कठिन परिश्रम की आवश्यकता बहुत जरूरी है|

Bank Manager की मुख्य परीक्षा (Main Exam)-

मुख्य परीक्षा बैंक मैनेजर बनने के लिए दूसरा चरण होता है| यह परीक्षा प्रारंभिक परीक्षा से थोड़ी कठिन होती है| प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण छात्रों को मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है|

Bank Manager की साक्षात्कार (Interview)

दोनों परीक्षाओं में उत्तीर्ण हुए छात्रों को साक्षात्कार यानी interview के लिए अपने शैक्षिक प्रपत्रों के साथ बुलाया जाता है| इस परीक्षा में अभ्यर्थियों से अनेक प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है, उनके उत्तर के आधार पर उनका चयन किया जाता है|

बैंक मैनेजर की परीक्षा का सिलेबस पैटर्न  Syllabus pattern for Bank Manager Job-

अंग्रेजी- बैंक के paper में इंग्लिश स्कोरिंग सब्जेक्ट होता है, यदि आपकी इंग्लिश के साथ ग्रामर भी अच्छी है तो आप अधिक नंबर लाकर बैंक का पेपर क्लियर कर सकते है| अगर आपकी अंग्रेजी अच्छी है तो आपको बहुत ज्यादा प्रायोरिटी  मिलती है| बैंक के एग्जाम में इंग्लिश वर्ड  के मीनिंग, ग्रामर, पैराग्राफ सही है|

रीजनिंग (Reasoning)- यह बैंक की परीक्षा में अत्यंत महत्वपूर्ण है| इसका अच्छा अभ्यास से आपको अच्छे अंक आ सकते है| पेपर के इस हिस्से में सवाल के 4 विकल्प होते हैं, जिसमें से आपको एक सही जबाब चुनना होता है| इसमें रिश्तेदार, दिशा, डायग्राम से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है|

एप्टीट्यूड (Quantitative Aptitude)- इस एप्टीट्यूड में आपसे गणित से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है| इसके लिए आपको वर्ग, बीज गणित, अंक प्रणाली, अनुपात, प्रतिशत, ब्याज, मूलधन आदि प्रश्न आने बहुत जरूरी हैं| इस भाग को हल करने के लिए आपकी मैथ्स अच्छी होनी चाहिए इसकी तैयारी अच्छे से करें|

बैंक मैनेजर की सैलरी Salary for Bank Manager job-

बैंक में मैनेजर की सैलरी काफी अच्छी मानी जाती है| बैंक मैनेजर के पद की सैलरी लगभग 20,000 से 60,000 रुपये प्रतिमाह तक के बीच में होती है और दूसरा बैंक की तरफ से कई तरह की सुविधाओं भी मिलती है|

FAQ-

प्रश्न – बैंक मैनेजर की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- Bank Manager की सैलरी लगभग ₹20,000 से ₹60,000 तक के बीच में होती है|

प्रश्न – बैंक मैनेजर परीक्षा की चयन प्रक्रिया क्या है?

उत्तर- बैंक मैनेजर परीक्षा की चयन प्रक्रिया यह है-

  1. प्रारंभिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. इंटरव्यू

Question- What is the duty of a bank manager?

Answer- Being a management role in the running of one or more branches and be responsible for meeting tough sales targets and keeping staff fully trained and motivated.

Question- What is the eligibility of Bank Manager?

Answer- The eligibility of Bank Manager Candidates for the qualification should have a passed graduated from any recognized university.

Question- What is the age limit for the Bank Manager Job?

Answer- The age limit of the Bank Manager should be from 21 years to 30 years and the candidates belonging to Scheduled Caste / Scheduled Tribes and Other Backward Classes are given 5 and 3 years of age.

NEET परीक्षा क्या है महत्त्वपूर्ण जानकारी NEET Entrance Exam Process

NEET एग्जाम पैटर्न एवं प्रवेश कैसे ले Details for NEET Exam Pattern in Hindi

NEET परीक्षा क्या है महत्त्वपूर्ण जानकारी NEET Entrance Exam Process NEET परीक्षा क्या है जाने इसके बारे में- राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा (NEET) भारत में अंडरग्रेजुएट्स एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश पाने के इछुक उम्मीदवारों के लिए यह एक प्रवेश परीक्षा है| भरतीय चिकत्सा परिषद और भारतीय दंत परिषद की मंजूरी से देश भर में चल रहे मेडिकल और डेंटल कॉलेजों के एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश इसी परीक्षा (NEET) के परिणाम के आधार पर होता है|

लेकिन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स) और जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्ट ग्रेजुएट्स मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (जेआईपीएमई आर, पांडिचेरी) को इस परीक्षा (NEET 2018 तैयारी) से छुट प्राप्त होती है| इन दोनों संस्थानों में मेडिकल कोर्सेज में दाखिले के लिए अलग से प्रवेश परीक्षा आयोजित करवाई जाती है| यह परीक्षा (NEET) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सीबीएसई (CBSE) द्वारा आयोजित करवाई जाती है| हर साल मेडिकल साइंस में अपना करियर (Career) बनाने में अपनी दिलचस्पी रखने वाले अधिक से अधिक छात्र इस परीक्षा में भाग लेते है|

नीट NEET एग्जाम की योग्यता Eligibility Criteria for NEET Exam

एनईईटी (NEET) परीक्षा में प्रवेश लेने के लिए उम्मीदवारों की योग्यता भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जिव विज्ञान और अंग्रेजी आदि विषय में समान्य जाती के उम्मीदवार12वी कक्षा में कुल 50 प्रतिशत से पास होने चाहिए|  साथ ही नीट (NEET) परीक्षा में प्रवेश के लिए अनुसूचित जाती और अनुसूचित जन जाती के लिए 45 प्रतिशत अंक और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 40 प्रतिशत होने ही चाहिए|

NEET परीक्षा में प्रवेश लेने के लिए आयु सीमा Age limit for NEET Exam –

NEET परीक्षा में प्रवेश लेने के लिए आयु सीमा लगभग 17 से 25 साल के बीच तक की होनी चाहिए और अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आयु सीमा में 5 और 3 साल तक की छुट दी जाती है|

NEET परीक्षा का पैटर्न Syllabus pattern for NEET Exam –

NEET परीक्षा का पैटर्न इस प्रकार है-

  1. नीट (NEET) परीक्षा मुख्य रूप से तीन विषयों भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान और अंग्रेजी आदि पर आधारित होती है|
  2. NEET परीक्षा में 3 घंटे का समय दिया जाता है और साथ ही 180 बहुविकल्प वाले प्रश्न पूछे जाते है|
  3. NEET परीक्षा में एक प्रश्न का सही उत्तर देने पर 4 अंक मिलते है और गलत उत्तर देने पर 1 अंक काट लिया जाता है|
  4. साथ ही NEET परीक्षा अधिकतर मई या जून के महीने में आयोजित करवाई जाती है|

NEET परीक्षा के लिए आवेदन कैसे करे How to apply form NEET Exam-

एनईईटी (NEET) प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन साथ ही इसकी सम्पूर्ण जानकारी के लिए उम्मीदवार इसकी आधाकारिक वेबसाइट में जाकर आसानी के साथ पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते है|

सीबीएसई नीट एग्जाम 2018 परिणाम NEET Exam Result

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) उत्तर पत्रकों का मूल्यांकन करेगी| उम्मीदवारों को कुल 720 में से अंक दिए जाते हैं| नीट (NEET) का परीक्षा परिणाम सीबीएसई नीट की आधिकारिक वेबसाइट दिया जाता है वहां से आप देख सकते है|

FAQ-                                                         

प्रश्न- नीट (NEET) का परीक्षा के लिए आयु सीमा क्या है?

उत्तर- नीट (NEET) परीक्षा में प्रवेश लेने के लिए आयु सीमा 17  से 25 वर्ष तक होनी चाहिए और अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 5 और 3 वर्ष की आयु दी जानी चाहिए|

प्रश्न- नीट एग्जाम के लिए योग्यता क्या होनी चाहिये?

उत्तर- नीट परीक्षा में प्रवेश लेने के लिए उम्मीदवारों की योग्यता भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जिव विज्ञान और अंग्रेजी आदि विषय में उम्मीदवारों ने 12वी कक्षा में कुल 50 प्रतिशत से पास की हुई हो|

प्रश्न- NEET परीक्षा के लिए कितने घंटे का समय दिया जाता है?

उत्तर- NEET परीक्षा के लिए 3 घंटे का समय दिया जाता है और साथ ही 180 बहुविकल्प वाले प्रश्न पूछे जाते है|

Question- How many marks is the NEET exam?

Answer- Marking scheme of NEET  examination the question paper will be total 720 maximum marks and total four marks will be given for each correct answer.

Question- What is the use of NEET exam?

Answer- NEET stands for National Eligibility Entrance Test. The purpose of NEET is exam is to streamline the process of admission in MBBS and BDS courses. Whole of the admission under these two courses would come under this exam.

साइंटिस्ट कैसे बनें कुछ ख़ास बाते How to become a scientist Skills

वैज्ञानिक बनने के लिए क्या करें Detail for Scientists Scope and Career Opportunity

वैज्ञानिक कैसे बनें कुछ ख़ास बाते jobisearchसाइंटिस्ट कैसे बनें- 10 वी कक्षा पास करने के बाद वैज्ञानिक करियर में ध्यान दे सकते है| ज्यादातर छात्रों को इसी समय पर सही निर्णय लेना जरूरी है कि उन्हें आगे किस फील्ड में करियर बनाना है| यह पर आपको साइंटिस्ट बनने के लिए क्या करें| वैज्ञानिक (types of scientists) से जुडी जानकारी प्राप्त करे सकते है साथ ही एक scientist यानि वैज्ञानिक बनने के लिए क्या क्या करना होता है| यह सभी जानकारी यहाँ पर दी गयी है| (वैज्ञानिक) Scientist बनने के लिए आपमें कई सारी खूबियाँ होनी आवश्यक है तभी आप एक सफल साइंटिस्ट बन सकते है| आइये जानते है विस्तार से कि वैज्ञानिक (different types of scientists) बनने के लिए कौन कौन से गुण एवं योग्यता होना चाहिए|

साइंटिस्ट बनने के लिए शैक्षिणिक योग्यता Eligibility Criteria for Scientists Professions Skills-

साइंटिस्ट बनने के लिए आपको 10th के बाद English, Physics, Chemistry, biology, Maths आदि जैसे subject के साथ शुरुआत करनी चाहिए| इसके बाद इन्हीं विषयों में उच्च शिक्षा ग्रेजुएशन एवं पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद वैज्ञानिकों के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं|

साइंटिस्ट बनने के लिए कौन से गुण होने चाहिए  Important Characteristics of Scientists diligence-

  1. वैज्ञानिक बनने के लिए लगन का होना- जीवन में आप जो भी लक्ष्य प्राप्त करना चाहते है आपको उसे पाने की लगन होनी चाहिये| यह सबसे जरुरी है कि आप जो भी पाना चाहते है उसे पाने के लिए आप अपने स्तर पर हर संभव प्रयास करे| एक वैज्ञानिक बनने के लिए आपमे एक लगन एक जूनून होना चाहिये| अपनी खुद की काबिलियत को देखते हुए अपनी मंजिल तक पहुच सकते है|
  2. वैज्ञानिक बनने के लिए विज्ञान मे रुचि का होना- वैज्ञानिक बनने के लिए आपकी रुचि विज्ञान मे होनी आवश्यक है| अगर आप वैज्ञानिक (scientist) बनना चाहते है तो आपको विज्ञान मे‌ रुचि रखना जरुरी है| 

वैज्ञानिक की उम्र सीमा  Age limit for Scientist Science technology-

वैज्ञानिक बनने के लिए उम्र सीमा लगभग 25 से 50 साल तक के बीच में हो सकती है| इस क्षेत्र में आवेदन करके आप इस विभाग में रहते हुए भी अपनी रिसर्च आदि को जारी रखते हुए अपनी मंजिल तक आसानी के साथ पहुँच सकते है|

साइंटिस्ट भाषाओ की जानकारी रखना keep knowledge for scientific languages-

वैज्ञानिक के लिए अपनी मात्र भाषा के साथ साथ अन्य भाषाओं का ज्ञान होना भी बहुत जरूरी है क्योंकि कई बार  वैज्ञानिक को विदेश आदि जाना होता है जहा पर अलग भाषा होती है इसके लिए वैज्ञानिक बनने के लिए आपको अधिक से अधिक भाषा सीखनी होगी|

वैज्ञानिक बनने के लिए प्रैक्टिकल स्टडी करे Reasons to Become a practical science in technology-

वैज्ञानिक का सारा काम प्रैक्टिकल (practical) ही होता है अगर आपको साइंटिस्ट बनना है तो ज्यादा से ज्यादा कार्य practical ही तरीके से सिखने होगे| इससे आपके वैज्ञानिक बनने के‌ चान्स (chance) काफि ज्यादा बढ सकते है|

साइंटिस्ट की सैलरी Salary  for scientific Professions Skill-

वैज्ञानिकों की जॉब A ग्रेड जॉब होती है इसमें शुरुआत से ही काफी अच्छी सैलरी मिलती है| जो समय और अनुभव के साथ साथ बड़ती जाती है| सैलरी के आलावा वैज्ञानिको को कई सारे भत्ते आदि भी मिलते है|

FAQ-

प्रश्न- वैज्ञानिक बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए?

उत्तर- साइंटिस्ट बनने के लिए आपको 10th के बाद साइंस subject के साथ शुरुआत करनी चाहिए| वैज्ञानिक बनने के लिए योग्यता उच्च शिक्षा ग्रेजुएशन एवं पोस्ट ग्रेजुएशन होनी आवश्यक है|

प्रश्न- साइंटिस्ट बनने के लिए कौन कौन से गुण होने चाहिए?

उत्तर- वैज्ञानिक बनने के लिए गुण इस प्रकार होने चाहिये जैसे-

  1. लगन का होना
  2. विज्ञानं में रूचि
  3. प्रैक्टिकल नॉलेज का होना
  4. भाषाओ का ज्ञान होना आदि|

प्रश्न- वैज्ञानिकों की सैलरी क्या होती है?

उत्तर- वैज्ञानिकों की सैलरी लगभग ₹15000 से ₹30000 तक के बीच में होती है| साथ ही अपनी काबिलियत के अनुसार इस क्षेत्र में अच्छी सैलरी पा सकते है|

Question- Who is a scientist?

Answer- A scientist is a person engaging in a systematic activity to acquire knowledge that describes and predicts the natural world. In a more restricted sense, a scientist may refer to an individual scientific method.

Question- Who are the top scientists in the world?

Answer- The 7 greatest scientists in the world are-

  1. Timothy Berners-Lee,
  2. Stephen Hawking,
  3. Shinya Yamanaka,
  4. Ashoke Sen,
  5. James Watson

Question- How do you become a scientist?

Answer- To become a scientist is bachelor’s degree. The first educational step to becoming a biological scientist is to acquire a 4-year bachelor degree in biology. An aspiring biological scientist takes classes in biology, chemistry, physics and mathematics and computer science.