डॉक्टर कैसे बने मेडिकल में कैरियर एवं भविष्य AIIMS, AIPMT Exams Tips

डॉक्टर कैसे बने (How to become a Doctor) –

हम सभी का कोई न कोई लक्ष्य जरूर होता है. और उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हम दिन रात मेहनत भी करते है.

डॉक्टर कैसे बने जॉबआईसर्च इनहम सभी के लक्ष्य सामान नहीं होते. वर्तमान में युवा पीढ़ी में डॉक्टर बनने का क्रेज देखने को मिलता है. आजकल स्टूडेंट्स इंजीनियरिंग या डिफेन्स जॉब में इंटरेस्ट कम लेकर डॉक्टर बनने की चाह में है.  डॉक्टर बनना कोई आसान काम नहीं है. डॉक्टर बनने के लिए कड़ी-मेहनत चाहिए. डॉक्टर बनने के लिए टफ एग्जाम भी पास करने पड़ते है. जो एग्जाम आसानी से क्वालीफाई नहीं हो पाते. यदि आप सीबीएसई (CBSE) की एआईपीएमटी परीक्षा के माध्यम से डॉक्टर बनना चाहते है. और अपने डॉक्टर बनने के सपने को पूरा करना चाहते है. तो यहाँ से प्राप्त जानकारियों को यदि आप डेली फोकस करते है. और इन दिए गए टिप्स के अनुसार मेहनत करते है. तो आप अपने डॉक्टर बनने के सपने को जरूर साकार कर पाओगे.

पूरे वर्ल्ड में मेडिकल संबंधी तमाम पद्धतियां लोकप्रिय हैं, परन्तु इनमे से एलोपैथिक मेडिसिन पद्धति सबसे अधिक प्रसिद्ध है. एलोपैथिक आधुनिक मेडिकल प्रणाली है. यह चिकित्सा की सबसे साइंटिफिक विधि है. जिसके अंतर्गत विभिन्न उपकरणों के माध्यम से मरीज की जांच कर किसी परिणाम तक पहुंचा जा सकता है. तथा इसके उपरांत इलाज प्रारम्भ किया जाता है. इसके अलावा आवश्यकता पड़ने पर आधुनिक उपकरणों की सहायता के माध्यम से शल्य चिकित्सा या सर्जरी की जाती है. इस विधि में दो तरह के डॉक्टर की जरुरत होती है. पहला फिजिशियन व् दूसरा सर्जन। फिजिशियन का कार्य रोग के बारे में विभिन्न दवाइयां लिखकर परामर्श देना तथा सर्जन ऑपरेशन को अंजाम देते हैं।

मेडिकल के लिए प्रवेश प्रक्रिया (The admission process for medical) –

यदि आप मेडिकल फील्ड में प्रवेश करना चाहते है. तो आपको एमबीबीएस में एडमिशन के लिए ऑल इंडिया (All India Level) और स्टेट लेवल (State Level) पर परीक्षाएं देनी पड़ती है. आल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) जैसे बड़े संस्थान सीधे प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं. वैसे, ऑल इंडिया लेवल पर सीबीएसई द्वारा हर वर्ष आयोजित की जानी वाली आल इंडिया प्री-मेडिकल (AIPMT), प्री-डेंटल टेस्ट सबसे प्रमुख परीक्षा है। इस परीक्षा में सम्म्लित होने के लिए स्टूडेंट्स का बॉयोलॉजी विषय से 12th क्लास पास करना अनिवार्य होता है. परन्तु जो स्टूडेंट्स अभी 12th क्लास की परीक्षा दे रहे है. वे स्टूडेंट्स भी इस परीक्षा में शामिल हो सकते है. लेकिन यदि आप एंट्रेंस एग्जाम पास कर लेते है. तो इसके बाद आपको एमबीबीएस में एडमिशन तभी मिलेगा, जब आप 12th क्लास में उत्तीर्ण हो जायेंगे.

एआईपीएमटी परीक्षा (AIPMT Exam) –

सीबीएसई द्वारा आयोजित एआईपीएमटी की प्रारंभिक परीक्षा आमतौर पर अप्रैल महीने में आयोजित की जाती है। इस परीक्षा में शामिल होने के लिए आपको बायोलॉजी से 12th क्लास में कम से कम 50% अंको के साथ पास होना अनिवार्य होता है. एआईपीएमटी परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद ही आप फाइनल एग्जाम में शामिल हो सकते है. इस परीक्षा में प्राप्त रैंकिंग के अनुसार ही आपको काउंसिलिंग के लिए आमंत्रित किया जायेगा. और इसी के आधार पर आपको कॉलेज प्राप्त किये जायेंगे.

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए स्टूडेंट्स की उम्र 25 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति व् अन्य पिछड़े वर्ग से संबंधित स्टूडेंट्स के लिए अधिकतम उम्र सीमा से 5 वर्ष की छूट का प्रावधान है। लेकिन किसी भी वर्ग से संबंधित स्टूडेंट्स एआईपीएमटी परीक्षा में केवल तीन बार ही शामिल हो सकते हैं।

डॉक्टर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता (Educational qualifications to become a doctor)

यदि आप एलोपैथिक डॉक्टर बनने की चाह रखते है. तो सबसे पहले आपको 12th क्लास में बॉयोलॉजी विषय से पास होना होगा. 12th क्लास पास करने के बाद आपको बैचलर ऑफ मेडिसिन एवं बैचलर ऑफ सर्जरी (MBBS) की पढ़ाई करनी होती है. एमबीबीएस कोर्स की समय अवधि साढ़े चार वर्ष की होती है.

इस कोर्स को पूरा करने के बाद स्टूडेंट्स को किसी मेडिकल कॉलेज में एक साल की इंटर्नशिप भी करनी होती है। इस कारणवश एमबीबीएस कोर्स साढ़े पांच साल में पूरा होता है. यदि आप एमबीबीएस कोर्स में सफलता प्राप्त कर लेते है. तो आपको मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) द्वारा योग्य डॉक्टर के रूप में एमबीबीएस की डिग्री प्रदान कर दी जाती है. इसके पश्चात आप अपने इंटरेस्ट या योग्यता के अनुसार पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स जैसे एमडी, एमएस तथा उसके बाद रिसर्च कर सकते हैं। रिसर्च करने के पश्चात आप किसी मेडिकल कॉलेज या रिसर्च संस्थान में प्रैक्टिस के दौरान टीचिंग का कार्य आरम्भ कर सकते हैं।

मेडिकल के लिए बेस्ट कोर्स (Top Medical Course) –
  1. M.B.B.S. (Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery) – 5.5 Years
  2. B.D.S (Bachelor of Dental Surgery) – 4 Years
  3. B.H.M.S. (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery) – 5.5 Years
  4. B.A.M.S. (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery) – 5.5 Years
  5. M.D (Doctor of Medicine) – 3 Years
  6. M.S (Master of Surgery) – 3 Years
  7. D.M (Doctorate in Medicine) – 2 to 3 Years
  8. B.Pharm (Bachelor of Pharmacy) – 4 Years
  9. B.Sc Nursing – 4 Years
  10. B.P.T (Physiotherapy) – 4.5 Years
  11. B.O.T (Occupational Therapy) – 3 Years
  12. B.U.M.S (Unani Medicine) – 5.5 Years
  13. D.Pharm (Ayurvedic, Siddha Medicine) – 2 Years
  14. BMLT (Bachelor of Medical Lab Technicians) – 3 Years
भारत के प्रमुख 10 मेडिकल इंस्टीटूट (Top 10 Medical Institute in India) –
  1. Kasturba Medical College (KMC), Manipal
  2. Grant Medical College, Mumbai
  3. Madras Medical College, Chennai
  4. Lady Hardinge Medical College (LHMC), Delhi
  5. Maulana Azad Medical College (MAMC), Delhi
  6. JIPMER College, Puducherry
  7. Armed Forces Medical College (AFMC), Pune
  8. Christian Medical College (CMC), Vellore
  9. All India Institute of Medical Sciences (AIIMS), Delhi
  10. Sri Ramachandra Medical College and Research Institute, Chennai

विश्व के प्रमुख मेडिकल इंस्टीटूट (Top Medical Institute in World) –

  1. Harvard University (United States)
  2. University of Oxford (United Kingdom)
  3. University of Cambridge (United Kingdom)4
  4. Johns Hopkins University (United States)
  5. Stanford University (United States)
  6. University of California, San Francisco (UCSF) (United States)
  7. University of California, Los Angeles (UCLA) (United States)
  8. Yale University (United States)
  9. UCL (University College London) (United Kingdom)

एआईपीएमटी परीक्षा में कैसे पाए सफलता (How to find success in the AIPMT Exam)

बेसिक क्लियर करे (Clear the Fundamental)-

यदि आप एआईपीएमटी में अच्छे स्कोर प्राप्त करना चाहते है. तो उसके लिए आपको सबसे पहले अपना बेसिक क्लियर करना होगा. क्योकि एआईपीएमटी में आपसे केवल 12 तक के सिलेबस से ही प्रश्न पूछे जाते है. 12 क्लास के तीन विषय फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के फंडामेंटल्स को पूरी तरीके से तैयारी कर लीजिये. यदि अपने अपने सिलेबस को अच्छे से पड़ा है. या आप अपना पूरा कोर्स कवर कर चुके हो तो आपको एआईपीएमटी परीक्षा निकलने में ज्यादा दिक्कत नहीं होगी.

सैंपल पेपर सॉल्व करे (Solve the Sample Paper) –

आप अच्छे स्कोर प्राप्त करने के लिए एआईपीएमटी के पिछले वर्षों के प्रश्नों को हल करे. इससे आपको बहुत लाभ मिलेगा. क्योकि इससे आपको यह पता चल जायेगा. कि परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते है. परीक्षा पैटर्न कैसा है. यदि आप सैंपल पेपर सॉल्व करते है. तो आप अपने एआईपीएमटी एग्जाम की तैयारी अच्छे कर सकते है. क्योकि सैंपल पेपर सॉल्व सॉल्व करने से आपको अपनी गलतियों का पता चल जाता है. और आप उसे ठीक समय पर ही सुधर सकते है. इसलिए ज्यादा से ज्यादा सेम्पल पेपर सॉल्व करे.

कोचिंग इंस्टिट्यूट की ले सकते है मदद (You can take help of Coaching Institute) –

यदि आपको लग रहा है कि आप खुद से अच्छे से तैयारी नहीं कर पा रहे है. तो आप कोचिंग इंस्टिट्यूट की भी मदद ले सकते है. परन्तु कोचिंग इंस्टिट्यूट से आपको तब तक कोई फायदा नहीं होगा. जब तक आप खुद से प्रैक्टिस ना करे. जरूरत महसूस करने पर आप अपने दोस्त या सीनियर से भी टॉपिक डिसकस कर सकते है.

फिजिक्स सब्जेक्ट में भी दे पूरा ध्यान (Also give attention to the Physics Subject) –

एआईपीएमटी एग्जाम में अच्छे स्कोर प्राप्त करने के लिए आपको हर सब्जेक्ट में अच्छे से तैयारी करनी होगी. ज्यादातर बायोलॉजी के स्टूडेंट्स बायो में ज्यादा ध्यान देते है. और फिजिक्स और केमिस्ट्री विषय में  ध्यान नहीं देते. क्योकि बायोलॉजी के स्टूडेंट्स के लिए बायो सब्जेक्ट प्रिय होता है. पर आपको यह समझना होगा कि अच्छे स्कोर लेन के लिए आपको सभी सब्जेक्ट में अच्छी तैयारी करनी होगी.