गोवा राज्य के प्रतीक व परंपरागत संस्कृति समान्य ज्ञान जनरल नॉलेज

राज्य प्रतीक व परंपरागत संस्कृति समान्य ज्ञान (Goa State Symbols and Traditional Culture GK)-

गोवा राज्य की राज्य प्रतीक व परंपरागत संस्कृति जॉबआईसर्च इनगोवा राज्य में सभी त्यौहार बहुत ही उल्लास से बनाए जाते है, इस राज्य में गणेश चतुर्थी बहुत ही हर्षोल्लास से मनाया जाने वाला त्यौहार है,  गोवा राज्य अपने खाने के लिए बहुत ही प्रशिद्ध है, समुन्द्र तट में रहते हुए यहाँ के कहना का स्वाद बहुत ही बेहतर हो जाता है.

गोवा का खाना फिश करी के बिना आधा है, प्रॉन करी जो नारियल के दूध में बनायीं जाती है, गोवा में ईसाई धर्म द्वारा खाया जाने वाला पोर्क सॉरपोटेल क्रिसमस में बनाया जाता है, नेवरी को करांजी भी कहा जाता है इसे इलाइची नारियल, चीनी, बादाम का मसाला भरा जाता है।

राज्य पक्षी – बुलबुल

राज्य फूल – कोई नहीं

राज्य पेड़ – मत्‍ती (इण्डियनलॉरेल)

राज्य पशु – गौर

राज्य भाषा – कोंकणी

लोकप्रित खेल – फुटबॉल

आभूषण – पानो भाजु

वाद्य यंत्र – ढोल, मृदंगा, तबला, घूमत, कसाले, मडलेम, शहनाई, सुर्त, तस्सो, नगाड़ा, और तम्बूरा

परंपरागत पोशाक – नव वारी( साड़ी), गाउन ,रंगीन शर्ट, हाफ पैंट और सर पर बांस की छाल से बनी टोपी

मिठाई – बेबिन्का, नेवरी

व्यंजन – फिश रेशेडो,  प्रॉन करी,फिश करी, चिकन जकौटी, चिकन कैफरियल, पोर्क सॉरपोटेल, पोर्क विंडालू, रवा फ्राइड फिश

लोक नृत्य – माडो, धालो, फुगड़ी

go agri

go poly

go demo

go travel

all state