कौन से कोर्स है जरुरी टीचर बनने के लिए Which course required to become a teacher

जाने कौनसे कोर्स है जरुरी आपके टीचर बनने के लिए What course required to become a teacher

%e0%a4%9f%e0%a5%80%e0%a4%9a%e0%a4%b0-%e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%8f-%e0%a4%95%e0%a5%8c%e0%a4%a8%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a5%8b%e0%a4%b0आज के समय में बहुत से ऐसे लोग हैं जिनका सपना होता है टीचर बनना. अपने इसी सपने को पूरा करने के लिए लोग बहुत मेहनत करते हैं पर वही कुछ ऐसे लोग भी हैं जो जानना चाहते हैं की टीचर बनने के लिए कौन से कोर्स करने पड़ते हैं.

Advertisements

यहाँ पर आपको बताया गया है की एक टीचर बनने के लिए आपको कौन-कौन से कोर्स करने पड़ते हैं और ये कोर्स करने से आपको कौन से क्षेत्र में नौकरी मिलती है. अक्सर टीचर्स का स्थान सबसे ऊपर ही रहता है इसलिए अधिकतर लोगो का सपना होता है टीचर बनना. टीचर एक बहुत ही अच्छी और प्रोफेसनल जॉब है जो की हर किसी के लिए बहुत ही सुविधाजनक जो है इसीलिए ज्यादातर लोग टीचर बनना पसंद करते हैं.

टीचर बनने के लिए कौनकौन से कोर्स हैं What are the courses to become teacher

बीएड (बैचलर ऑफ एजुकेशन) –

बीएड कोर्स के बारे में सभी लोगो ने सुना ही होगा यह लोकप्रिय कोर्स है आमतौर पर टीचिंग के क्षेत्र में जाने के लिए बीएड किया जाता है. सर्वप्रथम यह कोर्स एक वर्ष का होता था, जिसे 2015 से बढ़ाकर दो साल का कर दिया गया है. इस कोर्स को करने के लिए सर्वप्रथम एंट्रेंस एग्जाम पास करना जरुरी होता है तथा परीक्षा देने के लिए आपको ग्रेजुएट (Graduate) होना आवश्यक है. हर वर्ष बीएड कोर्स के लिए एंट्रेंस टेस्ट आयोजित किया जाता है. बीएड कोर्स करने के बाद उम्मीदवार प्राइमरी, अपर प्राइमरी और हाई स्कूल में पढ़ाने के लिए तैयार हो जाते हैं.

Advertisements

बीटीसी (बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट) –

बीटीसी कोर्स केवल उत्तर प्रदेश के उम्‍मीदवारों के लिए ही है और इसमें केवल राज्‍य के ही विद्यार्थी हिस्‍सा ले सकते हैं. यह भी दो साल का कोर्स है. इस कोर्स को करने के लिए भी आपको सर्वप्रथम प्रवेश परीक्षा पास करनी होती है. इस परीक्षा के लिए जिले स्तर पर काउंसलिंग (Counseling) कराई जाती है. बीटीसी की प्रवेश परीक्षा देने के लिए उम्मीदवारों को ग्रेजुएट होना जरूरी है. साथ ही इसके लिए आयु सीमा 18-30 वर्ष निर्धारित की गयी है. बीटीसी कोर्स (BTC Course) करने के बाद उम्‍मीदवार प्राइमरी और अपर प्राइमरी लेवल के टीचर बनने के योग्‍य हो जाते हैं.

एनटीटी (नर्सरी टीचर ट्रेनिंग) –

एनटीटी कोर्स महानगरों में ज्यादा प्रचलित है. यह भी दो वर्ष का कोर्स होता है. इस कोर्स में प्रवेश बारवी कक्षा के अंकों के आधार पर या कई जगहों पर प्रवेश परीक्षा के आधार पर दिया जाता है. प्रवेश परीक्षा में करंट अफेयर्स (Current Affairs) , जनरल स्टडी, हिन्दी, रीजनिंग, टीचिंग एप्टीट्यूड (Teaching Aptitude) और अंग्रेजी से सवाल पूछे जाते हैं. एनटीटी कोर्स को करने के बाद उम्‍मीदवार प्राइमरी टीचर (Primary Teacher) बनने के योग्य हो जाते हैं.

Advertisements

बीपीएड (बैचलर इन फिजिकल एजुकेशन) –

फिजिकल एजुकेशन में रोजगार के काफी नए अवसर शिक्षकों को मिल रहे हैं. इस पाठ्यक्रम में शिक्षक बनने के लिए दो तरह के कोर्स कराए जाते हैं. जिन उम्मीदवारों ने ग्रेजुएट लेवल पर फिजिकल एजुकेशन (Physical Education) एक विषय के रूप में पढ़ा है वे एक वर्ष वाला बीपीएड कोर्स कर सकते हैं. वहीं, जिन्होंने 12वीं में फिजिकल एजुकेशन पढ़ी हो वे तीन साल वाला स्नातक कोर्स कर सकते हैं. इसके एंट्रेंस टेस्ट (Entrance Test) में फिजिकल फिटनेस टेस्ट के साथ-साथ लिखित परीक्षा भी देनी होती है. एंट्रेंस टेस्‍ट में पास होने के बाद इंटरव्‍यू (Interview) भी पास करना जरूरी होता है.

जेबीटी (जूनियर टीचर ट्रेनिंग) –

जूनियर टीचर ट्रेनिंग कोर्स के लिए न्यूतम योग्यता 12वीं है और इस कोर्स में प्रवेश मेरिट के आधार पर तो कहीं प्रवेश परीक्षा के आधार पर होता है. इस कोर्स को करने के बाद उम्‍मीदवार प्राइमरी टीचर बनने के योग्य हो जाता है.

Advertisements

डीएड (डिप्लोमा इन एजुकेशन) –

डिप्लोमा इन एजुकेशन का यह दो वर्षीय कोर्स बिहार और मध्य प्रदेश में प्राइमरी शिक्षक बनने के लिए कराया जाता है. इस कोर्स में 12वीं के अंकों के आधार पर एडमिशन होता है.

              अगर आप टीचिंग के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, तो दिए गए सभी कोर्स की जानकारी आपको दी गयी है जिसकी मदद से आप पता क्र सकते हैं की कौन सा कोर्स करने से आपको किस क्षेत्र में नौकरी मिलती है.

Advertisements

संबंधित लेख