गठिया वात रोग के दर्द से कैसे पाएं छुटकारा Home remedies for Arthritis pain

गठिया वात रोग के घरेलू उपाय Arthritis Pain Relief Natural Home Remedies

अक्सर उम्र के बढ़ने पर बहुत से लोगों को गठिया की शिकायत होने लगती है।आमतौर पर जब यूरिक एसिड बॉडी में ज्‍यादा हो जाता है तो वह शरीर के जोड़ो में छोटे – छोटे क्रिस्‍टल के रूप में जमा होने लगता है तो इसी कारण जोड़ो में दर्द और ऐंठन होती है।

गठिया के किसी भी रूप में जोड़ों में सूजन दिखाई देने लगती है।इसका प्रभाव प्राय घुटनों, उंगलियों तथा  हड्डियों में होता है उसके बाद यह कलाइयों, कोहनियों,तथा कंधों के जोड़ भी दिखाई पड़ता है। तो आज हम बताएँगे आपको गठिया वात रोग के कुछ सरल घरेलू उपाय

गठिया रोग में बथुए का प्रयोग Bathuwa for Arthritis pain-

अगर आप गठिया के रोग से पीड़ित है तो आप बथुआ के पत्ते का रस लगभग तीन चार चम्मच प्रतिदिन खाली पेट पियें इसको पीने से गठिया रोग में काफी फ़ायदा होता है।

बथुए का रस लेने के बाद आगे पीछे 1 घंटे तक कुछ न खाएं पियें।बथुए की सब्जी को काटकर आटे में गूंथकर चपाती बनाकर खाना भी गठिया वात रोग के लिए काफी हितकारी उपाय है।

आलू से करें गठिया रोग का समापन  Potato to fix arthritis-

गठिया के रोगी को रोजाना प्रतिदिन खाना खाने से पहले दो आलूओं का रस निकालकर पीना चाहिए रोजाना कम से कम सात आठ चम्मच आलू का रस पीने से गठिया को कम करने में काफी राहत मिलती है|

वात रोग में सौंठ के फायदे Dry ginger for Vata Disease-

अगर आप गठिया के रोग से परेशान है तो आप इस बीमारी से राहत पाने के लिए घर में होने वाला अदरक को धुप में खूब सूखा लें और फिर उसको किसी भी रूप में पकाकर या हरीरा या लड्डू आदि। में थोड़ी थोड़ी मात्रा में मिलाकर खा सकते है| अदरक के सूखने के बाद इसे सौंठ के नाम से भी जानते है| ये गठिया के रोगी के लिए काफी मददगार होता है|

लहसुन जोड़ों के दर्द के लिए garlic for joints pain –

माना जाता है की गठिया रोगी के लिए लहसुन का रामबाण इलाज है। रोजाना शुबह शाम लहसुन की दो दो कली खाने से गठिया के रोग में बेहद आराम मिलता है अगर आपको इसे खाना पसंद न हो तो इसमें सेंधा नमक, जीरा, हींग, काली मिर्च और सौंठ की सभी थोड़ी थोड़ी ग्राम मात्रा लेकर अच्‍छे से पीस लें।और इस पेस्‍ट को अरंडी के तेल में भून लें और दर्द होने में इसे लगा भी सकते है|

वात रोग में अश्वगंधा का प्रयोग  Use of Ashwagandha in Vata Disease –

अगर आप वातरोग से परेशान है तो आप घर में पाए जाने वाली सामग्री से इस रोग को खत्म कर सकते है हल्दी, मेथी-दाना व सौंठ  100-100 ग्राम लीजिये और थोड़ी मात्रा में अश्वगंधा लेकर इन सब का चूर्ण बना लीजिये. और रोजाना इस चूर्ण को 1-1 चम्मच नाश्ते व रात को खाने के एक घंटे के बाद गुनगुने पानी के साथ लीजिये। इसका नियमित रूप से सेवन करने से आप गठिया वात रोग और जोड़ों के दर्द जैसी समस्याओं से काफी राहत पा सकेंगे|

गठिया के रोगी के लिए हरी सब्जी के फायदे Benefits of green vegetable –

गठिया रोग में हमेशा रोगी को ज्यादातर हरी सब्जी का सेवन करना चाहिए जिससे उनके बॉडी को पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा मिलती रहेगी और और दर्द का अहसास भी नहीं होगा हरी सब्जी में प्रोटीन, विटामिन,कैल्शियम आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते है और इससे हड्डियां भी मजबूद होती है|

योग व्यायाम से दूर करें जोड़ों का दर्द Health care tips for Vata Disease Arthritis –

गठिया से पीड़ित व्यक्ति को जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए रोजाना योग व्यायाम करना चाहिए योग हमारे शरीर को मजबूत बनाने के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है,जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए वज्रासन सबसे सरल आसन है। इसको करने से घुटनों का दर्द कम होता ही है और साथ में गठिया वात रोग की परेशानी भी ख़त्म हो जाती है.