कलेक्टर बनने के लिए क्या करें District Collector Jobs Requirement

कलेक्टर बनने की पूरी जानकारी Preparation Tips For Collector Jobs

कलेक्टर बनने के लिए क्या करेंकलेक्टर को आम भाषा में जिलाधिकारी कहते है या जिसे डी.एम, आई.ए.एस कहते है| Collector देश का सबसे प्रतिष्ठित अधिकारी माना जाता है और इसकी परीक्षा दुनिया की सबसे मुश्किल परीक्षाओं में से एक कही जाती है|

आप अपनी मेहनत के अनुसार Collector में अपना करियर बनाया जा सकता है| साथ ही Collector बनाने के लिए एक जिलाधिकारी का चुनाव बहुत सी बातों और कारकों कर निर्भर करती है लेकिन सबसे अहम् है उसका बौद्धिक स्तर (intellectual level) और व्यक्तित्व भी, लगभग सभी कुछ इसी के इर्द-गिर्द (Around) ही होता है| Collector की परीक्षा से लेकर इंटरव्यू और फिर ट्रेनिंग तक सिर्फ व्यक्तित्व निखारने का ही प्रयास होता है, एक अच्छी सोच एक अच्छा इंसान जरूर होना चाहिए| बात जब देश के सबसे बड़े अधिकारी की नियुक्ति (Appointment) की हो तो ये सवाल और भी ज्यादा मायने रखता है कि किन माप-डंडों (Measurement) पर कलेक्टर बनने वालो का चुनाव किया जाता है|

कलेक्टर कौन होता है? Who is the Collector –

Collector किसी जिले का एक भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) IAS का सबसे बड़ा प्रसासनिक अधिकारी होता है और Collector को जिले का मालिक भी कहा जा सकता है| जिले में स्थिति लगभग हर विभाग कलेक्टर के अधीनस्थ होते हैं| जिले में हर छोटे – बड़े निर्णय कलेक्टर को ही लेने होते हैं|

कलेक्टर बनने के लिए क्या करें?  What to do to become a collector

  1. Collector बनने के लिए सबसे पहले आप अपना ग्रेजुएशन पूरा करे|
  2. Collector बनने के लिए यूपीएससी द्वारा आयोजित सी.एस.ई. (CSE) परीक्षा भी दें|

कलेक्टर के कार्य (काम) District Collector works –

Collector के कार्य जैसे कि – आपदा प्रबंध, सरकारी योजनायों को लागु करवाना, ऋण वितरण, कर्ज वसूली, कर वसूली, भूमि अधिग्रहण, भूमि मूल्यांकन, आम जानता की समस्या का निदान करना आदि कई सारे कार्य होते हैं जो कलेक्टर को करने होते हैं| इसके साथ साथ मुख्य कार्य कानून व्यवस्था (Job law system) को बनाये रखना एवं जिले की जानकारी सरकार को देना भी कलेक्टर या जिला मजिस्ट्रेट (District Magistrate) के मुख्य कार्यों में से एक ही है|

कलेक्टर की शैक्षिक योग्यता Eligibility Criteria to become a Collector-

Collector बनने के लिए योग्यता शुरुआत में सिर्फ आपके डिग्री लेवल तक की जरूरी है| जैसे कि- Education कम से कम ग्रेजुएशन (स्नातक) किया हुआ होना चाहिए|

कलेक्टर की उम्र सीमा Age Limit  For Collector-

Collector बनने के लिए उम्र सीमा यह है-

  1. सामान्य श्रेणी (General) की लगभग 32 वर्ष
  2. अन्य पिछड़ी जाति (OBC) की लगभग 32 वर्ष (तीन साल की छूट = 35 वर्ष)
  3. अनुसूचित जाति/जनजाति (SC/ST) के लिए 32 वर्ष (पांच साल की छूट = 37 वर्ष)

कलेक्टर की सैलरी Salary For District Collector-

Collector की सैलरी बहुत अच्छी सैलरी मानी जाती है| कलेक्टर की सैलरी लगभग शुरुवात में 15,600 – 50,000 एक बीच होती है साथ ही काबिलियत के अनुसार बढती रहती है, डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (डीएम) या कलेक्टर या सरकारी मंत्रालयों का जॉइंट सेक्रेटरी इन सबकी सैलरी अलग अलग भी होती है|

कलेक्टर की परीक्षा का पैटर्न  Exams Pattern For District Collector

Collector) बनने के लिए आपको यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सर्विस एग्जाम (CSE) देना होती हैं जो कि आप ग्रेजुएशन के बाद कर सकते हैं| ग्रेजुएशन पूरा होने का इन्तेजार ना करते हुए आप ग्रेजुएशन के साथ ही यूपीएसई की तैयारी करनी शुरु भी कर सकते है| यह परीक्षा ग्रैड 1 के अधिकारीयों की भर्ती के लिए होती है तो जाहिर सी बात हैं कि यह आसान तो होगी नहीं और इस परीक्षा के लिए कॉम्पीटीशन (Competition) भी बहुत रहता है|

  1. कलेक्टर बनने के लिए पहला चरण प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam) Collector की प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी आप अपने स्नातक (graduate) की पढाई के साथ भी कर सकते हैं| अपने के अनुसार पसंद के विषय चुने और किसी जिस भी भाषा में आप सुविधा अनुसार परीक्षा दे सकते हैं| इसमें आपको 02 पेपर देना होता है: जनरल स्टडीज और एप्टीटुड (General Studies and Aptitude). यह दोनों ही पेपर 2 – 2 घंटे के होते है|
  2. कलेक्टर बनने के लिए दूसरा चरण मुख्य परीक्षा (Mains Exam) – Collector बनने की प्रारंभिक परीक्षा में सफलता पाने के बाद आप मुख्य परीक्षा के लिए योग्य (qualified) हो जाते हैं| इसके पेपर A और B में केवल पास होना पड़ता है| इसके अलावा आपको 7 और पेपर देने पड़ते हैं| साथ ही इसकेलिए सबसे अच्छा यह है कि आप UPSC द्वारा जारी नोटिफिकेशन देखते रहे क्यूंकि इसमें अक्सर बदलाव देखने को मिलते रहता है|
  3. Collector बनने के लिए तीसरा चरण व्यक्तित्व परीक्षण (Interview) – Collector बनने के लिए दोनों ही परीक्षाएं सफलता पूर्वक पास हो जाने के बाद अब सबसे अहम् होता है- इंटरव्यू, इसी में आपका और आपके पद का चुनाव किया जाता है|

कलेक्टर बनने के लिए तैयारी Exam Preparing For District Collector-

हमारे देश के लगभग हर बड़े जिले में ऐसी कक्षाएं संचालित की जाती है जहाँ आप सरकारी नौकरी जैसे- बैंक, रेलवे, एसएससी, यूपीएससी आदि की तैयारी करवाती हैं वहां पर आप कलेक्टर परीक्षा की तैयारी आसानी से कर सकते हैं| ऐसी कई कोचिंग है जो पिछले कई सालों से इन सभी परीक्षाओं की तैयारी करवाती है, जिनमे से कलेक्टर की कोचिंग भी है | Collector बनना आसान नहीं हैं पर पास करना मुश्किल भी नी है, बस पढाई के लिए कुछ समय अपने अनुसार निकालना पढ़ता है| कोचिंग में करीब 3 से 4 घंटे पढ़ने के बाद आपको खुद से सेल्फ स्टडी (self-study) भी करना होती है|

कलेक्टर में आवेदन कैसे करें Apply in District Collector recruitment –

Collector एक सरकारी नौकरी है इसके लिए आपको  ऑनलाइन आवेदन करना पड़ता है| जिला कलेक्टर जॉब के लिए वेबसाइट (website) में जाकर नोटिफिकेशन को देख सकते है|

FAQ-

प्रशन- कलेक्टर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता क्या होनी चाहिए?

उत्तर- Collector बनने के लिए शैक्षिक योग्यता ग्रेजुएशन (स्नातक) किया हुआ होना चाहिए|

प्रशन- कलेक्टर की सैलरी कितनी होती है?

उत्तर- Collector की सैलरी लगभग ₹18,000 से ₹50,000 तक के बीच होती है साथ ही काबिलियत के अनुसार बढती भी रहती है|

प्रशन- कलेक्टर बनने के लिए आयु सीमा कितनी मागी जाती है?

उत्तर- Collector बनने के लिए आयु सीमा लगभग 32 या 40 तक  की मागी जाती है|

Question- What is the collector called in common language?

Answer- The collector is called a common language in the district (जिलाधिकारी).

Question- What is the pattern of the collector examination?

Answer- The pattern of the collector examination are-

  1. Preliminary Exam
  2. Mains Exam
  3. Interview

Question- What is the work of the collector?

Answer- The collector work such as – disaster management, implementation of government schemes, debt distribution, debt collection, tax collector, land acquisition, land assessment, diagnosis of common knowledge etc.